शराब बेचने से मना किया तो शराब माफियाओं ने जमकर किया मारपीट,पाँच घायल - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

शराब बेचने से मना किया तो शराब माफियाओं ने जमकर किया मारपीट,पाँच घायल

Share This
आलोक वर्मा 

रजौली--थानाक्षेत्र के तारगिर गांव में शनिवार की सुबह एक परिवार को गांव में शराब बेचने से मना करना भारी पड़ गया।शराब के धंधेबाज अपने गुर्गों के साथ लाठी-डंडा व हथियार से लैस होकर मना करने वाले गाँव के ही नरेश प्रसाद के घर पर हमला कर दिया और जमकर मारपीट किया।मारपीट देखते ही देखते हिंसक हो गई और कई लोग खून से लथपथ होकर जमीन पर गिर गए जिसके बाद आसपास के ग्रामीण दौड़े और बीच-बचाव किया तब तक 5 लोग बुरी तरह से घायल हो चुके थे जिसमें नरेश प्रसाद, राजन कुमार, नीरज कुमार, आलोक कुमार और रविंद्र सिंह बुरी तरह से घायल हो गए सभी घायलों को परिजनों ने आनन-फानन में सदर अस्पताल नवादा लेकर गए जहां चिकित्सको ने सभी घायलों का प्राथमिक उपचार किया।घटना की जानकारी मिलते ही सदर अस्पताल में उपस्थित पुलिस ने पूरी घटना की जानकारी के लिए और स्थानीय थाना को इसकी जानकारी दी। मारपीट में घायल नीरज ने बताया कि शुक्रवार की रात मेरे पिताजी गाँव में शराब बेचने वाले धंधेबाज पंकज सिंह उर्फ पिंकू को कहा की गांव में शराब मत बेचा करो इससे गाँव के युवाओं को काफी नुकसान हो रहा है और गांव की भी बदनामी हो रही जिसको लेकर शुक्रवार की रात्रि में ही मेरे पिता जी और पंकज सिंह के बीच नोकझोक हुई थी। इसी बात से गुस्साये शराब धंधेबाज पंकज सिंह ने शनिवार की सुबह जब हमलोग घर मे बैठे थे तभी अपने 15 से 20 लोगो के साथ घर पर आया और मारपीट शुरू कर दिया।और जाते-जाते फायरिंग भी किया जिससे मेरा हाथ का उंगली कट गया।घटना के बाद गांव में दोनों तरफ से तनावपूर्ण स्थिति बना हुआ है। थानाध्यक्ष सुजय विद्यार्थी ने बताया कि घटना की जानकारी मिली है जिसके बाद पुलिस पदाधिकारी को मामले की जांच के लिए उक्त गाँव भेजा गया है सभी घायल सदर अस्पताल में हैं घायलों के द्वारा फर्द बयान में घटना के अंजाम देने वाले जिन लोगों का नाम सामने आएगा उन सभी के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी गांव की स्थिति पर पूरी नजर बनाई हुई है।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages