कुर्बानी की दौरान भीड़भाड़ नहीं रखें, हाथों की सफाई का रखें ख्याल सुरक्षित बकरीद मनाने की बिहार इंटरफेथ फोरम फॉर चिल्ड्रेन की अपील फोरम के माध्यम से उलेमाओं ने दी बधाई, कोरोना से बचाव पर भी जोर - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

क्रिकेट का लाइव स्कोर

कुर्बानी की दौरान भीड़भाड़ नहीं रखें, हाथों की सफाई का रखें ख्याल सुरक्षित बकरीद मनाने की बिहार इंटरफेथ फोरम फॉर चिल्ड्रेन की अपील फोरम के माध्यम से उलेमाओं ने दी बधाई, कोरोना से बचाव पर भी जोर

Share This



आलोक वर्मा / अनुराध भारती
नवादा : कोविड 19 के संक्रमण के मामलों में लगातार इजाफा हुआ है। इसे देखते हुए इर्द अल अज़हा की नमाज सार्वजनिक स्थानों पर नहीं पढ़ी जायेगी। लोग घरों में ही नमाज अदा कर जानवरों की कुर्बानी करेंगे। इसे लेकर धार्मिक गुरुओं द्वारा अपील की गयी है कि वे कुर्बानी के दौरान भी कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करें ताकि इस रोग से हर संभव बचाव किया जा सके।
बिहार इंटरफेथ फोरम के माध्यम से उलेमाओं ने कहा है समय की मांग है कि हम आवश्यक सावधानियों को अपनायें. बच्चों, महिलाओं, बुजुर्गों और वंचित परिवारों की विशेष देखभाल  कर आपसी सौहार्द के साथ त्योहार मनायें।

सुरक्षित रहकर त्योहार मनाने की अपील: इर्द अल अजहा के त्योहार को सुरक्षित तरीके से मनाने को लेकर धार्मिक संगठनों के प्रमुख व प्रतिनिधियों ने इस फोरम के माध्यम से अपना संदेश लोगों को दिया है। हज़रत सैयद शाह शमीमुद्दीन अहमद मुनेमी (खानका मुनेमिया), हाजी एस एम सनाउल्लाह (इदारे शरिया), मौलाना अनिसुर रहमान (आल इंडिया मिल्ली काउन्सिल), मो रिजवान अहमद (जमाते इस्लामी हिंद) और अन्य बिहार इंटरफेथ फोरम फॉर चिल्ड्रेन के सदस्यों ने बक़रीद की मुबारकबाद देते हुए जनता से सुरक्षित तरीकों जैसे शारीरिक दूरी का ख्याल रखने, हाथों की नियमित सफाई के साथ त्योहार मनाने की अपील की है। नियमित हाथ धोने व मास्क पहनने की आदत रखें और बच्चों को भी सिखायें। 

कुर्बानी देते समय इन बातों का रखना है ध्यान: धर्मगुरुओं ने कहा है कि कोविड 19 का प्रसार एक इंसान से दूसरे इंसान को होता है। लेकिन इसके भी प्रमाण मिले हैं कि रोग मनुष्यों से पशु में भी फैल सकता है, ख़ासतौर से कोविड से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से इसकी संभावना बढ़ जाती है। इससे होने वाले घातक स्वास्थ्य परिणाम, असमय मृत्यु, अनावश्यक खर्च ओर परेशानी से बचने के लिए सलाह दी गयी है। जानवरों की परंपरागत कुर्बानी देते समय सुरक्षा पैमानों का अधिक ध्यान और पूर्व की हिदायतों को अमल में लाते हुए घर पर कुर्बानी देने से परहेज़ करने के लिए कहा गया है।

कुर्बानी के दौरान भीड़भाड़ नहीं रखें: कुर्बानी के दौरान बहुत अधिक भीड़भाड़ न हो इस बात का ध्यान रखें। कुर्बानी से पहले और बाद में हाथों और औजारों की अच्छी तरह सफाई करें। उन्हें साबुन से धोंये और स्ट्रालाइन भी करें। यदि कुर्बानी किया जाने वाला पशु बीमार लग रहा हो तो ​कुर्बानी नहीं देना ही बेहतर है। पशु की खरीद विश्वसनीय स्रोतों से करें ताकि कोविड 19 का कोइ खतरा नहीं रहे।

मांस के बंटवारे के समय सावधानी रखें: कुर्बानी के बाद मांस के बंटवारे और उन्हें सुरक्षित रखने आदि के दौरान हाथों की सफाई, मास्क का इस्तेमाल और शारीरिक दूरी का भी ख्याल रखा जाना चाहिए। मीट अच्छी तरह साफ की जाये और उंचे तापमान पर पकाया जाये। खाने से पहले हाथों को साबुन से अच्छी तरह धोंये।

यूनिसेफ़ से मिल रही तकनीकी मदद: बिहार इंटरफेथ फोरम फॉर चिल्ड्रेन धार्मिक और आध्यात्मिक नेताओं और संगठनों का एक स्वैच्छिक मंच है, जो बच्चों और महिलाओं के अधिकारों और उनके हित के लिए निरंतर कार्य कर रही है। यूनिसेफ विकाराथ ट्रस्ट से समन्वय स्थापित कर बिहार इंटरफेथ फोरम फॉर को तकनीकी सहायता प्रदान कर रहा है।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages