चुनावी पड़ताल तरैया विधानसभा टिकट के दावेदारों ने बढ़ाई धड़कन कर रहे विरासत की सियासत - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

चुनावी पड़ताल तरैया विधानसभा टिकट के दावेदारों ने बढ़ाई धड़कन कर रहे विरासत की सियासत

Share This
अनूप नारायण सिंह 

मिथिला हिन्दी न्यूज :-छपरा जिला व महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले तरैया विधानसभा क्षेत्र में इन दिनों चुनावी खुमार कुछ ज्यादा ही चढ़ा हुआ है. निवर्तमान राजद विधायक मंत्री मुन्द्रिका राय उनके भतीजे व पूर्व विधायक रामदास राय के पुत्र जय श्रीराम यादव राजद से टिकट के दावेदार हैं जबकि पूर्व राजद सांसद प्रभुनाथ सिंह के भतीजे युवराज सुधीर सिंह भी मैदान में उतर चुके है मसरख के पूर्व राजद विधायक दिवंगत अशोक सिंह की पत्नी चांदनी देवी भी तरैया से ताल ठोक रही है. भाजपा के पूर्व विधायक जनक सिंह क्षेत्र में सक्रिय हैं पर जिला परिषद सदस्य प्रियंका सिंह भी भाजपा से टिकट की दावेदार है जदयू के तरफ से वरिष्ठ नेता शैलेंद्र प्रताप सिंह व जदयू अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष संतोष महतो भी टिकट के प्रबल दावेदार हैं. निर्दलीय संगम बाबा ने कोरोना काल में गांव-गांव में राहत वितरण का कार्यक्रम किया है इनका मैनेजमेंट सब पर भारी है. हिंदू समाज पार्टी के अभिमन्यु कुमार मनीष भी क्षेत्र में सक्रिय है राजद के मुन्द्रिका राय यहां के निवर्तमान विधायक हैं पूर्व मंत्री व तरैया की राजनीति में अमिट छाप छोड़ने वाले रामदास राय के वे अनुज है। मुन्द्रिका राय भले विरासत की राजनीति में हो पर अपनी शालीनता के कारण उनकी पहचान भी तेजी से क्षेत्र में बढ़ी है. एक तरफ आसन्न विधानसभा चुनाव को देखते हुए विरोधियों ने मुन्द्रिका राय के विजय रथ को रोकने के लिए पूरी तरह से तैयारी कर ली है वहीं दूसरी तरफ अब उन्हे अपने घर में ही चुनौती मिलने लगी है यह चुनौती भी अब उन्हें अपने बड़े भाई स्वर्गीय राम दास राय के पुत्र से ही मिल रही है. रामदास राय के पुत्र जय श्रीराम यादव ने अपने पिता की राजनीतिक विरासत अपने चाचा मुद्रिका राय से वापस मांगी है. 2010 परिसीमन के बाद तरैया का एक बड़ा भाग अमनौर विधानसभा में शामिल हो गया जबकि विलोपित हुए मसरख विधानसभा क्षेत्र का पानापुर इलाका तरैया में शामिल हो गया परिसीमन के बाद में पहले चुनाव में यहां से भाजपा के जनक सिंह विजयी हुए फिर दूसरी बार भाजपा की टिकट पर जनक सिंह यहां से जीतने में कामयाब नही हुए पिछले विधानसभा चुनाव में राजद के 
मुन्द्रिका राय यहां से विजयी हुए उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी के तौर पर भाजपा के जनक सिंह को हराया इस बार भाजपा से जनक सिंह प्रबल दावेदार हैं वहीं स्थानीय भाजपा सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल की करीबी जिला परिषद सदस्य प्रियंका सिंह भी टिकट को लेकर पूरी तरह से कन्फर्म है नीतीश कुमार के करीबी समझे जाने वाले और तरैया की राजनीति में विगत दो दशकों से सक्रिय राज्य परिषद के सदस्य शैलेंद्र प्रताप भी जदयू के टिकट पर चुनाव लड़ने के मूड में है निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर मुखिया संगम बाबा इन दिनों क्षेत्र में ज्यादा ही सक्रिय हैं.तरैया की लड़ाई में सबसे मजेदार अगर कोई है तो वह है प्रभुनाथ सिंह के भतीजे युवराज सुधीर सिंह उन्होंने भी निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है सुधीर के तरैया में पदार्पण से कई दिग्गजों के होश उड़े हुए हैं सुधीर क्षेत्र में कुछ ज्यादा सक्रिय हैं युवाओं की टोली है क्रिकेट के माध्यम से गांव-गांव तक में उन्होंने अपनी पैठ बना ली है. राजद के कद्दावर नेता प्रभुनाथ सिंह के भतीजे सुधीर के साथ ही साथ स्थानीय विधायक मुंद्रिका राय के लिए उनके भतीजे श्रीराम यादव भी गले की हड्डी बनते दिख रहे हैं की आशंका यह भी है कि सब कुछ मैनेज हो जाएगा पर जय श्रीराम यादव किसी भी कीमत पर इस बार चुनावी मैदान से हटने को तैयार नहीं है अगर मुंद्रिका राय व जय श्रीराम यादव दोनों मैदान में रहे तो यादव वोटों का बिखराव होना भी निश्चित है ऐसे में विरोधी उम्मीदवारों को फायदा मिल सकता है।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages