छपरा जिले के मशरख में बाढ़ से तबाही, पचास हजार आबादी वाले गांव में घुसा बाढ़ का पानी - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

क्रिकेट का लाइव स्कोर

छपरा जिले के मशरख में बाढ़ से तबाही, पचास हजार आबादी वाले गांव में घुसा बाढ़ का पानी

Share This
अनूप नारायण सिंह 

मिथिला हिन्दी न्यूज :-प्रखंड मुख्यालय से कटा अरना पंचायत का संपर्क पचास हजार की आबादी बाढ़ के पानी से घिरी
मशरख।छपरा जिले के मशरख प्रखंड के बरवाघाट बाजार का यह दृश्य है यहां घोघारी नदी पर जो पुल बना हुआ है जो अरना पंचायत के छपिया और अरना गांव को जाता है. उत्तर की तरफ अरना दक्षिण टोला को जोड़ने वाला संपर्क पथ पानी में डूब गया है पूरे गांव के अंदर तक मुख्य सड़कों पर पानी भरा हुआ है आगे बारोपुर मे स्थिति और विकराल है यह छपरा जिले का आखिरी गांव है इसके आगे सिवान जिला प्रारंभ हो जाता है विधानसभा भी बनियापुर की जगह गोरियाकोठी है.बरका अरना,अरना उतर टोला,बलुआ,मियां टोली,छपिय, सपही का संपर्क प्रखंड मुख्यालय से कट गया है. अरना उत्तर टोला से पदमौल होते हुए डुमरसन बाजार जाने वाला रास्ता भी पानी से डूब चुका है वहीं दूसरी तरफ बड़वा घाट बाजार से छपिया सपही होते हुए बंगला बाजार के पास एस एच को जोड़ने वाला संपर्क पथ भी छपिया दुजोरवि मंदिर के पास पानी के दबाव में टूट गया है. बरका अरना गांव के पीछे चौर में जगतपुर बंगरा के तरफ से बाढ़ का पानी आ जाने से स्थिति और विकराल हो गई है जबकि अरना उत्तर टोला में सीवान जिले के डमछो के तरफ से तेजी से पानी का बहाव हो रहा है. सैकड़ों एकड़ में लगी धान और मक्के की फसल टूट चुकी है 50,000 से ज्यादा की आबादी टापू की तरह चारों तरफ से पानी से घिरा हुआ है आवागमन का कोई साधन बचा हुआ नहीं है शासन प्रशासन की तरफ से अभी तक बाढ़ में फंसे इस पंचायत के लोगों की कोई सुध नहीं ली गई है घोघारी नदी का पानी का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है.
बाढ़ के पानी में कई जहरीले जीव व डूब के मरे मवेशियों के शव भी गांव तक आ चुके हैं. पहले ही कोरोना के कहर के कारण 4 महीने से घरों में कैद हजारों लोगों का जीवन पर के कारण नारकीय हो चुका है लोगों के सामने भूखे मरने की नौबत है वरिष्ठ टीवी पत्रकार व बरका अरना गाँव निवासी अनूप नारायण सिंह ने जल संसाधन विभाग के वरीय पदाधिकारियों छपरा के जिलाधिकारी मढ़ौरा के अनुमंडल अधिकारी व स्थानीय जनप्रतिनिधियों से इस गांव में फंसे हजारों परिवारों को अविलंब राहत सामग्री व नाव उपलब्ध कराने की मांग की है. वरिष्ठ कांग्रेस नेता राजन कुमार सिंह पंचायत के पूर्व मुखिया बृजकिशोर सिंह ने बताया कि इस पंचायत में विगत 100 वर्षों में महज एक बार वर्ष 2002 में हल्की बाढ़ आई थी और इस साल विकराल बाढ़ आई है इस कारण से इलाके के लोग बाढ़ की त्रासदी का सामना करने को तैयार नहीं है बनियापुर से राजद विधायक केदार नाथ सिंह भी आज पंचायत का दौरा करने पहुंचे तथा लोगों को हर संभव सहायता उपलब्ध कराने की बात कही. उन्होंने राज्य सरकार और जिला प्रशासन पर राहत कार्यों में जानबूझकर अनदेखी करने का आरोप भी लगाया पंचायत के बारो पुर उत्तर टोला में उन्होंने बाढ़ पीड़ित लोगों से मुलाकात की.

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages