सीतामढ़ी जिला सूबे का 16 वां धूम्रपान मुक्त जिला घोषित - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

सीतामढ़ी जिला सूबे का 16 वां धूम्रपान मुक्त जिला घोषित

Share This

                                                 
 1 सितंबर 2020

विमल किशोर सिंह

मिथिला हिन्दी न्यूज कार्यालय सीतामढ़ी, बिहार

जिला पदाधिकारी ने जिले वासियों से सार्वजनिक स्थानों पर तम्बाकू/धूम्रपान न करने का कियाअपील । 

जिला प्रशासन उल्लंघनकर्ताओ के खिलाफ़ चलाएगा सघन अभियान

सार्वजनिक स्थानों पर तम्बाकू सेवन करने वालों को किया जाएगा दण्डित।

 सीतामढ़ी/ समाहरणालय स्थित विमर्श कक्ष  में जिला पदाधिकारी  की अध्यक्षता में धूम्रपान मुक्त घोषणा समारोह का आयोजन किया गया।  उक्त समारोह में जिले के सभी वरीय पदाधिकारियों द्वारा धूम्रपान मुक्त घोषणापत्र पर हस्ताक्षर किया गया तथा जिलाधिकारी द्वारा सम्पूर्ण जिले को धूम्रपान/तम्बाकू मुक्त बनाए रखने की शपथ  भी दिलाई गई।

तम्बाकू नियंत्रण हेतु राज्य सरकार की तकनीकी सहयोगी संस्था सोशियो इकोनॉमिक एण्ड एजुकेशनल डेवलपमेंट सोसाईटी (सीड्स) के कार्यपालक निदेशक श्री दीपक मिश्रा ने पावर पॉइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से बताया कि राज्य सरकार एवं सीड्स के द्वारा संयुक्त रूप से राज्य के सभी 38 जिलो में चलाए जा रहे तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम COTPA-2003 की विभिन्न धाराओ के अनुपालन की स्थिति जानने हेतु राज्य स्वास्थ्य समिति के द्वारा समय समय पर स्वतंत्र एजेंसी से अनुपालन सर्वेक्षण कराया जाता है, तथा उस अनुपालन प्रतिवेदन के आधार पर COTPA -2003 की धारा 4 (सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान पर प्रतिबंध) के अनुपालन की बेहतर स्थिति के अनुसार जिलों को धूम्रपान मुक्त घोषित किया जाता है | राज्य के 15 जिलों यथा मुंगेर, कटिहार, पटना, लखीसराय, मधेपुरा, सहरसा, वैशाली, गोपालगंज, मधुबनी, खगड़िया, दरभंगा, समस्तीपुर और वैशाली,गया,अरवल को पूर्व में ही धूम्रपान मुक्त घोषित किया जा चुका है |  जिला पदाधिकारी द्वारा आज सीतामढ़ी को राज्य के 16 वें जिले के रुप में धूम्रपान मुक्त जिला घोषित किया गया है|दीपक मिश्रा ने बताया कि राज्य स्वास्थ्य समिति, बिहार सरकार और सीड्स के द्वारा राज्य के 16 जिलों में तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम (कोटपा 2003) के अनुपालन का एक स्वतंत्रत एजेंसी से सर्वेक्षण करवाया गया था। उक्त अनुपालन सर्वेक्षण में धूम्रपान मुक्त के तय मानको के आधार पर  सीतामढ़ी सहित राज्य के 6 जिलों को धूम्रपान मुक्त जिला घोषित करने निर्णय किया गया। सीतामढ़ी जिले में कोटपा की धारा 4 का अनुपालन प्रतिशत 96.1% पाया गया, जो अन्य जिलों की तुलना में काफी बेहतर है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए जिला पदाधिकारी  ने समस्त जिला वासियों से अपील करते हुए कहा की धूम्रपान के बाद अब हमलोगों को जिले को तम्बाकू मुक्त जिला बनाने की मुहिम शुरू करनी है, ताकि हमारी आने वाली पीढ़ियों को तम्बाकू के दुष्प्रभावों से बचाया जा सके। जिला पदाधिकारी ने तम्बाकू नियंत्रण हेतु जिले में गठित त्रिस्तरीय छापामार दस्ते के सभी सदस्यों को शैक्षणिक संस्थानों के 100 गज के अंदर अवस्थित सभी तम्बाकू उत्पाद बेचने वाले दुकानदारों को हटवाते हुए नियमित रूप से छापामारी करने का निर्देश दिया।
सीतामढ़ी जिला को स्मोक फ्री डिस्ट्रिक्ट घोषित करते हुए जिला पदाधिकारी ने  कहा कि  जिला को धूम्रपान मुक्त जिला घोषित करते हुए मुझे काफी प्रसन्नता हो रही है। इस कार्य हेतु ज़िला पदाधिकारी द्वारा सीतामढ़ी जिले की आम जनता, शैक्षणिक संस्थानों, सहयोगी संस्था सीड्स, जिले के तमाम मीडियाकर्मी, जिला स्तरीय पदाधिकारी, अनुमंडल स्तरीय पदाधिकारी, प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी, नगर निगम के नगर आयुक्त सहित अन्य पदाधिकारी, नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के सभी पदाधिकारी, पुलिस विभाग के सभी पदाधिकारी सहित जिले के सामाजिक संस्थाओं को धन्यवाद एवं बधाई दिया गया। उन्होंने कहा कि अब हमारा अगला अभियान सीतामढ़ी जिले को तंबाकू मुक्त जिला (टोबैको फ्री डिस्ट्रिक्ट) बनाने का होगा। 
जिलाधिकारी ने जिला तंबाकू नियंत्रण समन्वयक समिति की बैठक में  सीतामढ़ी को स्मोक फ्री जिला घोषित करते हुए कहा कि जिले में 2018 से यह अभियान चलाया जा रहा है।  वर्ष 2003 में भारतीय संसद द्वारा पारित कोटपा अधिनियम के सफल क्रियान्वयन के कारण देश में तंबाकू नियंत्रण पर काफी हद तक सफलता प्राप्त किया गया है। उन्होंने बताया कि धूम्रपान करना एक खतरनाक आदत है जहां छोटे-छोटे बच्चे हैं वहां तो स्थिति और भी अधिक नाजुक बन जाती है। तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम को अभियान के रूप में चलाए जाने के काफी अच्छे परिणाम प्राप्त हुए हैं। हर स्तर पर तंबाकू नियंत्रण के कार्यक्रम को सफल बनाने में सहयोग मिला है। केंद्र सरकार, राज्य सरकार, सरकार के सभी कार्यालय, शैक्षणिक संस्थानों, सामाजिक संस्थानों एवं मीडिया जगत का इस अभियान को चलाने में काफी सहयोग मिला है। अब सार्वजनिक स्थलों यथा सिनेमा हॉल, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, सार्वजनिक सड़क, शिक्षण संस्थानों, कार्यालयों सहित अन्य स्थानों पर धूम्रपान करना एक दंडनीय अपराध है। जिलाधिकारी ने कहा कि इस अभियान को सफल करने के लिए और अधिक प्रयास करनी होगी। समाज के आम लोगों के बीच जाकर तंबाकू के सेवन पर पूर्ण नियंत्रण लगाने हेतु कार्य करने होंगे। लोगों को तंबाकू का सेवन नहीं करने हेतु प्रेरित एवं जागरूक करना होगा। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार कोविड-19 से लड़ रहे हैं उसी प्रकार हमें तंबाकू को समाप्त करने हेतु लड़नी होगी।सीतामढ़ी जिला में तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन में तकनीकी सहयोगी संस्थान सीड्स के भूमिका की सराहना करते हुए जिला पदाधिकारी के द्वारा सीड्स के कार्यपालक निदेशक दीपक मिश्रा, जिला कार्यक्रम प्रबंधक मनोज कुमार झा को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। साथ ही  तम्बाकू नियंत्रण के जिला नोडल पदाधिकारी डॉ सुनील कुमार सिन्हा को भी जिला पदाधिकारी ने सम्मानित किया।
जिला पदाधिकारी ने जिले वासियो से अपील किया है कि आप तंबाकू से तैयार होने वाले सभी पदार्थों यथा बीड़ी, सिगरेट, गुटखा, खैनी, हुक्का इत्यादि को छोड़े क्योंकि इनके द्वारा अनेक बीमारियां होती हैं। आप सभी के सहयोग से सीतामढ़ी जिला धूम्रपान मुक्त जिला आज घोषित हुआ है। अब हम लोगों का प्रयास होगा कि सीतामढ़ी को तंबाकू मुक्त जिला बनाने हेतु हम सब मिलकर प्रयास करेंगे हमें आशा है कि इस अभियान में हम अवश्य सफल होंगे।
कार्यक्रम के प्रारंभ में सिविल सर्जन  ने सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया। उपविकास आयुक्त   तरनजोत सिंह ने कहा कि सभी के सामूहिक प्रयास से जिला धूम्रपान मुक्त हुआ। उन्होंने पूरी टीम को बधाई भी दिया। तम्बाकू नियंत्रण के जिला नोडल पदाधिकारी डॉ सुनील कुमार सिन्हा ने जिले में की जा रही गतिविधियों की जानकारी दी। जिलाधिकारी ने कहा कि धूम्रपान मुक्त जिला घोषित होने के बाद अब जिला वासियों की जिम्मेवारी और बढ़ जाएगी। श्री मिश्र ने बताया कि राज्य सरकार अब पूरे राज्य को नशामुक्त बनाने हेतु कृतसंकल्पित है।  नशामुक्त बिहार की परिकल्पना तभी साकार होगी जब राज्य  तम्बाकू मुक्त हो जायेगा।
आज के धूम्रपान मुक्त घोषणा कार्यक्रम में  उप विकास आयुक्त तरनजोत सिंह ,सिविल सर्जन डॉ राकेश, कोविड नोडल पदाधिकारी डॉ आर के यादव, निर्देशक डीआरडीए मुमुक्ष चौधरी, डीपीआरओ परिमल कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी राकेश कुमार, सीड्स के जिला कार्यक्रम प्रबंधक मनोज कुमार झा आदि उपस्थित थे।।   ..................................         
बदलकर अपना व्यवहार, करो कोरोना पर वार                                            
सजग रहे,सतर्क रहें,मास्क पहनकर ही बाहर निकले,सदैव सामाजिक दूरी का पालन करे,किसी भी प्रकार के लक्षण महसूस होने पर जिला प्रशसन के नंबर 06226...250316 पर सम्पर्क करें। हमेशा सरकार के दिशा निर्देशों का जरूर पालन करे। हम सब मिलकर ही कोरोना संक्रमण के चेन को रोक सकते है।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages