हिंदी दिवस समारोह का आयोजन विश्व में भारत को प्रतिष्ठित होने के लिए हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा मिलना जरूरी - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

क्रिकेट का लाइव स्कोर

हिंदी दिवस समारोह का आयोजन विश्व में भारत को प्रतिष्ठित होने के लिए हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा मिलना जरूरी

Share This
मोरवा/संवाददाता। 


देश को आजाद होने के बावजूद अब तक अपनी राष्ट्रभाषा का नहीं होना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। विश्व में भारत को तब तक प्रतिष्ठा नहीं प्राप्त होगी जब तक राष्ट्रीय स्वाभिमान की भाषा के रूप में भारत में बोली जाने वाली सर्वाधिक जनसंख्या वाली हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा का दर्जा नहीं मिल जाता। यह बातें कहीं स्वामी विवेकानंद विद्यालय में आयोजित हिंदी दिवस समारोह को संबोधित करते हुए प्रो अवधेश कुमार झा ने। प्रो झा ने स्पष्ट किया कि महात्मा गांधी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, चक्रवर्ती राजगोपालाचारी, बाल गंगाधर तिलक सहित संपूर्ण देश के महापुरुषों ने एक स्वर से हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की अपील की थी। इसके बावजूद देश को आजाद होने के बाद , वर्ष 19 49 में हिंदी आयोग का गठन करने के बाद भी, भारतीय संविधान में, हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा का दर्जा तो नहीं दिया गया, राजभाषा का दर्जा भी पूरी तरह नहीं दिया गया। हिंदी को राजभाषा के रूप में मान्यता देने के बावजूद अंग्रेजी को थोप दिया गया, कि जब तक सारे देशवासी पूरी तरह से हिंदी को स्वीकार नहीं करेंगे, तब तक पन्द्रह वर्षों के लिए अंग्रेजी ही राजभाषा रहेगी। आजादी मिले हुए 75 वर्ष पूरे होने वाले हैं । इसके बावजूद अंग्रेजी के लिए दिया गया वह 15 वर्ष, आज तक पूरा नहीं हुआ और आज भी अंग्रेजी ही पूरी तरह राजभाषा बनी हुई है। प्रो सावधानिया स्पष्ट किया कि देश की आत्मा संविधान है, और संविधान की भाषा अंग्रेजी है। देश का ह्रदय न्यायपालिका है, और अन्याय की भाषा अंग्रेजी है। गणतंत्र आत्मक देश के हृदय की धड़कन संसद है , और संसद की भाषा भी अंग्रेजी है। फिर हम किस मुंह से कह सकते हैं कि हमारा देश आजाद है और हमारे पास आजाद देश की आजाद भाषा है। संपूर्ण देश में जनसंख्या की दृष्टि से सर्वाधिक बोली जाने वाली और संपूर्ण विश्व में जनसंख्या की दृष्टि से तीसरे नंबर पर आने वाली हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा का दर्जा संविधान के द्वारा नहीं प्राप्त होगा भारत को संपूर्ण विश्व में काफी सम्मान प्राप्त नहीं होगा। इसीलिए आप हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा का दर्जा मिलना अत्यंत आवश्यक है। हिंदी दिवस समारोह की अध्यक्षता प्रो जनार्दन चौधरी ने की।श्याम कुमार राय, राम किशोर सिंह, प्रोफेसर मनोज कुमार झा ,प्रोफ़ेसर गगन देव चौधरी ,सीनेटर डॉ विजय कुमार झा आदि ने हिंदी दिवस समारोह को संबोधित किया। मौके पर संपूर्ण क्षेत्र के गणमान्य लोग सहित सैकड़ों लोग मौजूद थे।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages