कल से आरंभ हो रहा है मलमास, आखिर क्यों नहीं करते हैं मांगलिक कार्य पढें पूरी स्टोरी - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

क्रिकेट का लाइव स्कोर

कल से आरंभ हो रहा है मलमास, आखिर क्यों नहीं करते हैं मांगलिक कार्य पढें पूरी स्टोरी

Share This
पंकज झा शास्त्री 


मलमास,अधिकमास जिसे पुरषोत्तम मास भी कहा जाता है इस बार 17 सितंबर संध्या काल से प्रारंभ हो रहा है जो एक मास तक रहेगा। अब कई लोगो के मन में यह सवाल अक्सर होता है कि हर तीन साल में क्यों आता है अधिकमास?
वशिष्ठ सिद्धांत के अनुसार भारतीय ज्योतिष सूर्य मास और चंद्र मास की गणना के अनुसार चलता है। अधिकमास चंद्र वर्ष का एक अतिरिक्त भाग है, जो हर 32 माह, 16 दिन और 8 घटी के अंतर से आता है। इसका प्राकट्य सूर्य वर्ष और चंद्र वर्ष के बीच अंतर का संतुलन बनाने के लिए होता है। भारतीय गणना पद्धति के अनुसार प्रत्येक सूर्य वर्ष 365 दिन और करीब 6 घंटे का होता है, वहीं चंद्र वर्ष 354 दिनों का माना जाता है। दोनों वर्षों के बीच लगभग 11 दिनों काअंतर होता है, जो हर तीन वर्ष में लगभग 1 मास के बराबर हो जाता है। इसी अंतर को पाटने के लिए हर तीन साल में एक चंद्र मास अस्तित्व में आता है, जिसे अतिरिक्त होने के कारण अधिकमास का नाम दिया गया है ।
हिंदू धर्म में अधिकमास के दौरान सभी पवित्र कर्म वर्जित माने गए हैं। माना जाता है कि अतिरिक्त होने के कारण यह मास मलिन होता है। इसलिए इस मास के दौरान हिंदू धर्म के विशिष्ट व्यक्तिगत संस्कार जैसे नामकरण, यज्ञोपवीत, विवाह और सामान्य धार्मिक संस्कार जैसे गृहप्रवेश, नई बहुमूल्य वस्तुओं की खरीदी आदि आमतौर पर नहीं किए जाते हैं। मलिन मानने के कारण ही इस मास का नाम मल मास पड़ गया है।

 अधिकमास के अधिपति स्वामी भगवान विष्णु माने जाते हैं। पुरूषोत्तम भगवान विष्णु का ही एक नाम है। इसीलिए अधिकमास को पुरूषोत्तम मास के नाम से भी पुकारा जाता है। इस विषय में एक बड़ी ही रोचक कथा पुराणों में पढ़ने को मिलती है। कहा जाता है कि भारतीय मनीषियों ने अपनी गणना पद्धति से हर चंद्र मास के लिए एक देवता निर्धारित किए। चूंकि अधिकमास सूर्य और चंद्र मास के बीच संतुलन बनाने के लिए प्रकट हुआ, तो इस अतिरिक्त मास का अधिपतिबनने के लिए कोई देवता तैयार ना हुआ। ऐसे में ऋषि-मुनियों ने भगवान विष्णु से आग्रह किया कि वे ही इस मास का भार अपने उपर लें।भगवान विष्णु ने इस आग्रह को स्वीकार कर लिया और इस तरह यह मल मास के साथ पुरूषोत्तम मास भी बन गया।
अधिकमास को पुरूषोत्तम मास कहे जाने का एक सांकेतिक अर्थ भी है। ऐसा माना जाता है कि यह मास हर व्यक्ति विशेष के लिए तन-मन से पवित्र होने का समय होता है। इस दौरान श्रद्धालु जन व्रत, उपवास, ध्यान, योग और भजन-कीर्तन, चिंतन-मनन में संलग्न रहते हैं और अपने आपको भगवान के प्रति समर्पित कर देते हैं। इस तरह यह समय सामान्य पुरूष से उत्तम बनने का होता है, मन के मैल धोने का होता है। यही वजह है कि इसे पुरूषोत्तम मास का नाम दिया गया है। इस मास में कई लोग पूजा पाठ करना छोड़ देते है जबकि यह उचित नहीं है।
कुछ कार्यों को छोड़ निश्चित रूप से इस पुरषोत्तम मास में पूजा पाठ,भजन,कीर्तन करना ही चाहिए। वैसे किसी के व्यवहारिकता और लोकीकता को खंडन करना मेरे लिए संभव नहीं।

नोट - ज्योतिष,हस्तलिखित जन्मकुंडली, वास्तु, पूजा पाठ,महा मृत्युंजय जाप एवं अन्य धार्मिक अनुष्ठानों के लिए संपर्क कर सकते है।
- ज्योतिषीय प्रमर्ष हमारे द्वारा निः शुल्क दिया जाता है।
- जन्म कुंडली हस्तलिखित बनाकर भारत के किसी कोने तक पहुंचाने की सुविधा है।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages