श्रीलक्ष्मी देवी का अपमान करनेवाले और 'लव जिहाद' को प्रोत्साहन देनेवाली फिल्म 'लक्ष्मी बम' के प्रदर्शन पर प्रतिबंध लगाएं : हिन्दू जनजागृति समिति - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

श्रीलक्ष्मी देवी का अपमान करनेवाले और 'लव जिहाद' को प्रोत्साहन देनेवाली फिल्म 'लक्ष्मी बम' के प्रदर्शन पर प्रतिबंध लगाएं : हिन्दू जनजागृति समिति

Share This
श्री. रमेश शिंदे

 मिथिला हिन्दी न्यूज :- दीपावली की पृष्ठभूमि पर अभिनेता अक्षय कुमार की फिल्म 'लक्ष्मी बम' 9 नवंबर को प्रदर्शित होनेवाली है । दीपावली की पृष्ठभूमि पर उसका नाम हेतुतः 'लक्ष्मी बम' रखा गया है । इसलिए हमारी पहली आपत्ति इस फिल्म के नाम को है तथा इससे करोडों हिन्दुओ की देवी माता श्रीलक्ष्मीदेवी का अनादर किया गया है । एक ओर हिन्दू देवता का अपमान करनेवाले 'लक्ष्मी पटाखे' बंद करने के लिए हम गत अनेक वर्षों से उद्बोधन कर रहे हैं, इस फिल्म के नाम के कारण उन्हें पुनः प्रोत्साहन ही मिलनेवाला है । उसी प्रकार इस फिल्म के नायक का नाम आसिफ और नायिका का नाम 'प्रिया यादव' रखा गया है अर्थात उससे मुसलमान युवक और हिन्दू युवती के संबंध दिखाकर हेतुतः 'लव जिहाद' को प्रोत्साहन ही दिया गया है । इसलिए 'लक्ष्मी बम' फिल्म के प्रदर्शन पर तत्काल प्रतिबंध लगाया जाए, ऐसी मांग हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री. रमेश शिंदे ने की है ।

 श्री. शिंदे आगे बोले कि, एक ओर 'मोहम्मद : दि मेसेंजर ऑफ गॉड' नामक फिल्म के कारण मुसलमानों की धार्मिक भावनाएं आहत होती हैं, इसलिए महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने स्वयं संज्ञान लेकर उस पर तुरंत प्रतिबंध लगाने की सिफारिश केंद्र सरकार से की थी । उसी धर्ती पर हिन्दुओ के देवताओ का अपमान करनेवाले फिल्म 'लक्ष्मी बम' पर भी सरकार प्रतिबंध लगाने की सिफारिश करे, ऐसी मांग भी हिन्दू जनजागृति समिति ने गृहमंत्री श्री. अनिल देशमुख से की है । 

 इस फिल्म के ट्रेलर में अक्षय कुमार एक प्रेतबाधित की भूमिका कर रहा है । उसका भूत तृतीय पंथीय होने का आभास हो रहा है । उसी प्रकार बडा लाल कुमकुम, लाल साडी, केश खुले छोडना, हाथ में त्रिशूल लेकर नाचना, मानो देवी का रूप दिखाने का प्रयत्न किया गया है, यह अत्यंत निंदनीय है । दीपावली के निमित्त 'लक्ष्मी बम' के नाम से फिल्म बनानेवाले क्या कभी ईद के निमित्त 'आएशा बम', 'शबीना बम', 'फातिमा बम' के नाम से फिल्म बनाने का साहस करेंगे ? जिस प्रकार मुसलमानों की धार्मिक भावनाओ का विचार फिल्म निर्माता और शासक करते हैं, वैसा ही विचार हिन्दुओ की धार्मिक भावनाओ का क्यों नहीं करते ? हिन्दुओ से पक्षपात करना ही क्या सर्वधर्मसमभाव की व्याख्या है ? हिन्दू विरोध ही मानो वर्तमान सेक्युलरिजम हो गया है, ऐसा भी श्री. शिंदे ने कहा है ।

 फिल्म निर्माता शबीना खान और लेखक फरहद सामजी होने के कारण वे हेतुतः हिन्दूद्वेष फैला रहे हैं, ऐसा ध्यान में आता है । यदि इन मांगों की उपेक्षा की गई, तो तीव्र आंदोलन करने की चेतावनी भी श्री. शिंदे ने इस समय दी है । 

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages