शरद पूर्णिमा (कोजागरी पूर्णिमा) ३० अक्टूबर को मनाएं - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

शरद पूर्णिमा (कोजागरी पूर्णिमा) ३० अक्टूबर को मनाएं

Share This
‘शुक्रवार, ३०.१०.२०२० को सायंकाल ५.४६ के पश्‍चात ‘शरद पूर्णिमा’ प्रारंभ हो रही है । इस वर्ष ‘अधिक अश्‍विन मास’ होने के कारण अश्‍विन पूर्णिमा को ‘शरद पूर्णिमा (कोजागरी पूर्णिमा)’ है ।   

१. अश्‍विन पूर्णिमा के विविध नामों का अर्थ
अश्‍विन पूर्णिमा को ‘शरद (कोजागरी) पूर्णिमा’, ‘नवान्न पूर्णिमा’ अथवा ‘शरद पूर्णिमा’ के नाम से जाना जाता है । जिस दिन पूर्णिमा पूर्ण होती है, उस दिन ‘नवान्न पूर्णिमा’ मनाई जाती है । 

अ. अश्‍विन पूर्णिमा की उत्तररात्रि को लक्ष्मीदेवी ‘को जागरति’ अर्थात ‘कौन जाग रहा है ?’, ऐसा पूछती हैं; इसलिए इस पूर्णिमा को ‘कोजागरी पूर्णिमा’ कहते हैं । 

आ. किसान अश्‍विन पूर्णिमा को प्रकृति के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए नए अनाज की पूजा कर उसका भोग लगाते हैं; इसलिए इस पूर्णिमा को ‘नवान्न पूर्णिमा’ कहते हैं ।  

इ. अश्‍विन पूर्णिमा शरदऋतु में आती है; इसलिए इस पूर्णिमा को ‘शरद पूर्णिमा’ कहते हैं । 

२. पूर्णिमा तिथि दो दिन हो तो किस दिन शरद पूर्णिमा (कोजागरी पूर्णिमा) मनानी चाहिए ?

ज्योतिषशास्त्रानुसार सूर्योदय के समय जो तिथि होती है उसे ग्राह्य माना जाता है । हिन्दू पंचांगानुसार अश्‍विन महीने में मध्यरात्रि की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा (कोजागरी पूर्णिमा) मनाई जाती है । इस वर्ष ३०.१०.२०२० को सायंकाल ५.४६ बजे से ३१.१०.२०२० की रात्रि ८.१९ बजे तक पूर्णिमा तिथि है । ३०.१०.२०२० को मध्यरात्रि पूर्णिमा होने के कारण शरद पूर्णिमा (कोजागरी पूर्णिमा) मनाई जानेवाली है । 

३. शरद (कोजागरी)पूर्णिमा को चंद्रमा देखने का ज्योतिषशास्त्रीय महत्त्व 

इस दिन चंद्रमा पृथ्वी के सर्वाधिक निकट रहता है । इस दिन देवी लक्ष्मी और इंद्रदेवता का पूजन किया जाता है । इस कारण लक्ष्मीजी की कृपा से सुखसमृद्धि प्राप्त होती है । रात्रि को दूध में चंद्रमा का दर्शन करने से चंद्रमा की किरणों के माध्यम से अमृतप्राप्ति होती है ।‘अश्‍विन पूर्णिमा’ को चंद्रमा अश्‍विनी नक्षत्र में होता है । अश्‍विनी नक्षत्र के देवता ‘अश्‍विनीकुमार’ हैं । अश्‍विनीकुमार सर्व देवताआें के चिकित्सक हैं । अश्‍विनीकुमार की आराधना करने से असाध्य रोग ठीक होते हैं । इसलिए वर्ष की अन्य पूर्णिमाओं की तुलना में अश्‍विन पूर्णिमा को चंद्रमा के दर्शन से कष्ट नहीं होता ।  
ज्योतिषशास्त्र में चंद्रमा ग्रह को मन का कारक माना गया है । इसलिए हमारी मानसिक भावनाएं, निराशा और उत्साह चंद्रमा से संबंधित हैं । जिनकी जन्मकुंडली में चंद्रमा बल न्यून होता है, उन्हें पूर्णिमा के आसपास मानसिक कष्ट होने की मात्रा बढती है । जिनकी जन्मकुंडली में चंद्रमा का बल अच्छा है, उनकी प्रतिभा पूर्णिमा के चंद्रमा, चांदनी के वातावरण में जागृत होती है । उन्हें काव्य सूझता है । 

चंद्रमा मातृकारक ग्रह है, अर्थात कुंडली के चंद्रमा से माता के सुख का अध्ययन करते हैं । अश्‍विन पूर्णिमा को चंद्रमा की साक्षी से माता कृतज्ञताभाव से अपनी ज्येष्ठ संतान की आरती उतारती है; क्योंकि प्रथम संतान के जन्म के उपरांत स्त्री को मातृत्व का आनंद प्राप्त होता है ।’

- श्रीमती प्राजक्ता जोशी, ज्योतिष फलित विशारद, वास्तु विशारद, अंक ज्योतिष विशारद, रत्नशास्त्र विशारद, अष्टकवर्ग विशारद, सर्टिफाइड डाउसर, रमल पंडित, हस्ताक्षर मनोविश्‍लेषणशास्त्र विशारद, महर्षि अध्यात्म विश्‍वविद्यालय, रामनाथी, फोंडा, गोवा.

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages