भैया दूज पर इस तरह करें भाई का पूजन, आयु भी बढ़ेगी और यश भी मिलेगा - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

भैया दूज पर इस तरह करें भाई का पूजन, आयु भी बढ़ेगी और यश भी मिलेगा

Share This
पंकज झा शास्त्री 

मिथिला हिन्दी न्यूज :- भाई बहन के बीच स्नेह प्रेम का प्रतीक पर्व भाईदूज(भरदुतिया) पर्व इस वार 16 नवंबर 2020 सोमवार को मनाई जा रही है। इस दिन बहन भाई के माथे पर तिलक करके उनके लंबी आयु की कामना करती है एक प्रचलित कथा के अनुसार भगवान सूर्य नारायण की पत्नी का नाम छाया था। उनकी कोख से यमराज तथा यमुना का जन्म हुआ था। यमुना यमराज से बड़ा स्नेह करती थी। वह उससे बराबर निवेदन करती कि इष्ट मित्रों सहित उसके घर आकर भोजन करो। अपने कार्य में व्यस्त यमराज बात को टालता रहा। कार्तिक शुक्ला का दिन आया। यमुना ने उस दिन फिर यमराज को भोजन के लिए निमंत्रण देकर, उसे अपने घर आने के लिए वचनबद्ध कर लिया।

यमराज ने सोचा कि मैं तो प्राणों को हरने वाला हूं। मुझे कोई भी अपने घर नहीं बुलाना चाहता। बहन जिस सद्भावना से मुझे बुला रही है, उसका पालन करना मेरा धर्म है। बहन के घर आते समय यमराज ने नरक निवास करने वाले जीवों को मुक्त कर दिया। यमराज को अपने घर आया देखकर यमुना की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उसने स्नान कर पूजन करके व्यंजन परोसकर भोजन कराया। यमुना द्वारा किए गए आतिथ्य से यमराज ने प्रसन्न होकर बहन को वर मांगने का आदेश दिया।

यमुना ने कहा कि भद्र! आप प्रति वर्ष इसी दिन मेरे घर आया करो। मेरी तरह जो बहन इस दिन अपने भाई को आदर सत्कार करके टीका करें, उसे तुम्हारा भय न रहे। यमराज ने तथास्तु कहकर यमुना को अमूल्य वस्त्राभूषण देकर यमलोक की राह की। इसी दिन से पर्व की परम्परा बनी। ऐसी मान्यता है कि जो आतिथ्य स्वीकार करते हैं, उन्हें यम का भय नहीं रहता। इसीलिए भैयादूज को यमराज तथा यमुना का पूजन किया जाता है।

पंकज झा शास्त्री ने बताया कि पंचांग के अनुसार, कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की ​द्वितीया तिथि के दिन चित्रगुप्त पूजा होती है। इस​ दिन को यम द्वितीया भी कहते हैं, जो भाई दूज के नाम से प्रसिद्ध है। इस वर्ष चित्रगुप्त पूजा 16 नवंबर दिन सोमवार को है। देवताओं के लेखपाल चित्रगुप्त महाराज मनुष्यों के पाप-पुण्य का लेखा-जोखा रखते हैं। कार्तिक शुक्ल ​द्वितीया को नई कलम या लेखनी की पूजा चित्रगुप्त जी के प्रतिरूप के तौर पर होती है। कायस्थ या व्यापारी वर्ग के लिए चित्रगुप्त पूजा दिन से ही नववर्ष का अगाज माना जाता है।

भाईदूज पर्व में तिलक मुहूर्त दिन के 09:24से दिन के 02: 40तक
द्वितीय तिथि आरंभ इस दिन दिन के 09 :23 के उपरांत।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages