कृषि कानूनों पर गरमायी सियासत ,शिवहर में हुआ सेमिनार - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

कृषि कानूनों पर गरमायी सियासत ,शिवहर में हुआ सेमिनार

Share This

पैक्स लुट- तंत्र का हिस्सा - आदित्य कुमार

रिक्षित राज ने कहा यही कानून महाराष्ट्र में भाजपा विरोध कर रही थी और केंद्र लागू कर रही है तो यह रिश्ता क्या कहलाता है

प्रिंस कुमार 

शिवहर-कृषि कानूनों के खिलाफ शिवहर में समाजसेवियों, प्रबुद्ध जनों एवं सामाजिक संगठनों के द्वारा सेमिनार का आयोजन स्थानीय प्रोजेक्ट बालिका उच्च विद्यालय के सभागार में किया गया है।
 कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व जिला पार्षद अजब लाल चौधरी ने की, तो मंच का संचालन मुकुंद प्रकाश मिश्र ने किया वहीं मुख्य वक्ता के रूप में जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष शिशिर कुमार एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में वरिष्ठ अधिवक्ता सतीश नंदन सिंह आदि ने सेमिनार को संबोधित किया है। मौके पर राजद जिलाध्यक्ष इश्तियाक अहमद खान, अधिवक्ता रानी गुप्ता, अक्षर इंटरनेशनल के प्राचार्य प्रियंका सिंह, कार्यक्रम के संयोजक मुकुंद प्रकाश मिश्र, विधानसभा के पूर्व प्रत्याशी संजय संघर्ष सिंह, राकेश राइडर सहित दर्जनों किसान आदि मौजूद थे।
मुख्य वक्ता शिशिर कुमार ने कहा है कि अन्नदाता के समर्थन में आज जिलावासी एक होकर कृषि कानून का विरोध कर रहे हैं। कृषि कानूनों को वापस ले केंद्र सरकार,सुशील कुमार ने बताया है कि अडानी अंबानी के कंपनी राज कायम करने के लिए तीनों कृषि विरोधी काला कानून लाया है ।देश के लाखों किसान आंदोलन में फासीवादी मोदी सरकार का मुकाबला कर रहे हैं।
जबकि वरिष्ठ अधिवक्ता सतीश नंदन सिंह ने कहा है कि देश के वफादार अन्नदाता किसान देशवासियों का सस्ता अनाज के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं ।आज तीनों कृषि कानून की वापसी को लेकर आंदोलन कर रहे हैं ताकि काला कानून को केंद्र सरकार वापस ले ले ।आज किसानों को हम लोगों की जरूरत है, हम लोगों का फर्ज बनता है कि अपने देश के अन्नदाताओं के समर्थन में आगे आकर किसान आंदोलन का हिस्सा बने। केंद्र की मोदी सरकार किसान विरोधी है देश के किसानों को घर से बेघर करना चाहती है।
अपने अध्यक्षीय भाषण में पूर्व जिला पार्षद अजब लाल चौधरी ने कहा है कि इस बिल के आने से किसानों को ही नहीं आम लोगों को भी बहुत बड़ा नुकसान होने जा रहा है। गेहूं ,धान एवं अन्य फसलों का दाम चरम पर हो जाएगा। खेती संबंधित तीनों कानून देश के किसानों को कंगाल बनाएगा और कॉरपोरेट हाउसेस को गुलाम।
आदित्य कुमार ने विस्तार पूर्वक कृषि कानून पर जानकारी दी है तथा बताया है कि पैक्स लूट तंत्र का हिस्सा है। जबकि नये युवक रिक्षित राज ने कहा है कि यही सेम कानून महाराष्ट्र में बना था तो भाजपा विरोध करती थी और यही कानून को केंद्र सरकार लागू कर रही है तो "यह रिश्ता क्या कहलाता है" इस पर सरकार स्पष्टीकरण देने चाहिए।
मौके पर शिक्षक संघ के सचिव शंकर सिंह, किसान इंदल राय, राजद नेता अनिल कुमार यादव, मुरली मनोहर सिंह, लखविंदर राम ,अरविंद कुमार आदि सहित दर्जनों किसान मौजूद थे ।सभी ने अपना अपना विचार रखा है तथा किसी कानून का विरोध जताया।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages