अपराध के खबरें

20 से 30 रुपए तक हो सकते हैं चिकन के दाम, जानिए इसकी सबसे बड़ी वजह

संवाद
 

मिथिला हिन्दी न्यूज :- दुनिया भर में कोरोना के खौफ तो है ही पर भारत में अब एक और खतरनाक बीमारी का आगाज हो गया है। बर्ड फ्लू की शुरुआत पक्षियों से होती है। बर्ड फ्लू चिकन से तेजी से फैलता है।कोरोना वायरस के सुरुआत में भी इसका असर दिखने लगा था । कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा असर मांस के व्यापार पर पड़ा थां
। बिहार इस खतरा का सबसे ज्यादा असर पोल्ट्री के कारोबार पर पड़ा है। 100-110 रुपए किलो बिकने वाला मुर्गा 20-30 रुपए किलो बिक रहा है। इसी बीच एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें पॉल्ट्री फॉर्म का मालिक लोगों को फ्री में मुर्गा बांटता दिख रहा हैं।  कोरोना वायरस के डर से इलाके के लोगों ने चिकेन मटन और मछली खाना छोड़ दिया है. इसका सबसे ज्यादा प्रभाव चिकेन बाजार पर पड़ा था . चिकेन का प्रोडक्शन होने के बाद भी सेल ना होने की स्थिति में दुकानदार ने फ्री में ही मुर्गों को लुटाने की ठानी था . गांव के लोगों को जैसे ही मुफ्त में मुर्गा मिलने की सूचना मिली वहां बड़ी संख्या में लोग जुट गए और लोगों में मुर्गा लूटने की होड़ मच गई थी . तो अब बर्ड फ्लू के वजह से जिंदा मुर्गा 30 रुपए, मांस 100 रुपए तक गिरेगा आपको बता दें मौजूदा स्थिति की बात करें तो थोक में जिंदा मुर्गे की कीमत 120 रुपए प्रति किलो है। यदि बीमारी का असर दिखा तो ये दाम 20-30 रुपए पर आ जाएंगे। यदि कोई ग्राहक सिर्फ मुर्गे का मांस खरीदता है तो उसे 180 रुपए प्रति किलो चुकाना होता है। वहीं ये बीमारी नहीं रुकी तो ये दाम 100 रुपए प्रति किलो तक गिर जाएंगे। मौजूदा समय में 95 रुपए से लेकर 100 रुपए प्रति किलो तक मंडी में जिंदा मुर्गे के दाम हैं। इस बीच सरकार ने हालांकि, चिकन या अंडा खाने पर किसी तरह का खतरा नहीं बताया है. सरकार का कहना है कि चिकन, अंडा सही तरीके से पका कर खाएं, कच्चापन ना रहने दें. ऐसे में किसी को खतरा नहीं होगा.

live