मोरवा: अतिक्रमण मुक्त कराने पहुंची सीओ और थानाध्यक्ष को करना पड़ा भारी विरोध का सामना - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

मोरवा: अतिक्रमण मुक्त कराने पहुंची सीओ और थानाध्यक्ष को करना पड़ा भारी विरोध का सामना

Share This
मोरवा के चकपाहर में अतिक्रमण मुक्त कराने पहुंची सीओ एवं ताजपुर थाना अध्यक्ष अपने दल के साथ,ग्रामीणों के विरोध का करना पड़ा सामना,एक घंटे से अधिक समय तक दो पक्षों में होती रही तीखी नोकझोंक !


मोरवा/संवाददाता। 

समस्तीपुर जिले के मोरवा प्रखंड के चकपहार पंचायत वार्ड संख्या चार कमतौल गांव में ताजपुर पुलिस दल के साथ अतिक्रमण मुक्त कराने पहुंची सीओ प्रीति लता को ग्रामीणों का विरोध का सामना करना पड़ा। एक पक्ष द्वारा विवादित जमीन को अपने पूर्वजों के नाम दखल कब्जा होने की बात बताई जा रही थी। तो दूसरे पक्ष द्वारा विवादित जमीन पर अपना हक जताते हुए प्रशासन से अतिक्रमण मुक्त कराने के लिए बार-बार आग्रह किया जा रहा था। इसका मामला हाईकोर्ट तक चलने की भी बात बताई गई। विगत दस वर्षों से चल रहे मामले को सीओ द्वारा निपटाने के लिए अतिक्रमण मुक्ति अभियान चलाते हुए ताजपुर पुलिस के साथ घटनास्थल पर पहुंची थी। एक पक्ष द्वारा खाता संख्या 204, एवं खेसरा 1774 की जमीन पर अपना पुश्तैनी दखल कब्जा होते हुए अपना हक जताया जा रहा था तो दूसरे पक्ष के द्वारा उस पर अपना अधिकार जताया जा रहा था। दोनों पक्षों के बीच एक घंटे से अधिक समय तक तीखी नोकझोंक होती रही। सभी ग्रामीणों में भीषण विवाद की उत्पन्न हो चुकी स्थिति देखकर सीओ प्रीति लता एवं ताजपुर थाना अध्यक्ष शंभू नाथ सिंह सहित अंचल प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन पूरी तरह किंकर्तव्यविमूढ़ हो चुका था।कागजातों का निरीक्षण करने के बाद सीओ प्रीति लता और ताजपुर थाना अध्यक्ष शंभू नाथ सिंह ने अगले शनिवार को ताजपुर थाने पर जनता दरबार में दोनों पक्षों को मौजूद होने का आदेश दिया है। साथ ही सीओ ने एक सप्ताह में अतिक्रमण मुक्त कराने का आश्वासन दिया है। जिसके कारण ग्रामीणों द्वारा अतिक्रमण मुक्ति का जबरदस्त विरोध किया जा रहा है, इस प्रकार यह मामला कोर्ट में भी दाखिल होने की बात बताई गई है। अतिक्रमण मामले को अगले शनिवार को ताजपुर थाना में देखने की बात बताई गई है!

live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages