अपराध के खबरें

दुनिया में सबसे सस्ता भारतीय कोरोना वैक्सीन, जो चीन से सबसे महंगा है, पूरी सूची जानिए

संवाद 

भारत सहित दुनिया भर के कई देशों ने कोरोना महामारी का मुकाबला करने के लिए टीके विकसित किए हैं। सभी देशों का लक्ष्य बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए हर नागरिक तक कोरोना वैक्सीन पहुंचाना है। लेकिन कुछ कंपनियों का वैक्सीन इतना महंगा है कि यह आसानी से सभी तक नहीं पहुंच पाता है।अगर कीमत के लिहाज से कोरोना वैक्सीन को देखें तो भारत सबसे सफल रहा है। भारत का टीका दुनिया में सबसे सस्ता है, जबकि चीन का टीका दुनिया में सबसे महंगा है। यही नहीं, भारत ने थोड़े समय में कोरोना वैक्सीन विकसित की है। जबकि चीन जैसे देशों को पूरा समय मिला है। जिस तरह से चीन हर उत्पाद को कम कीमत पर लॉन्च करके अपनी पकड़ मजबूत करता है। कोरोना वैक्सीन के साथ ऐसा नहीं है। क्योंकि चीनी टीका दुनिया का सबसे महंगा टीका है। अगर हम भारत की चीनी वैक्सीन से तुलना करें, तो चीनी टीका लगभग 9 गुना अधिक महंगा है।ऐसे परिदृश्य में, दुनिया के सभी देश जो आर्थिक रूप से समृद्ध नहीं हैं, वे भारत की ओर उम्मीद से देख रहे हैं, क्योंकि भारत में निर्मित दोनों टीके दुनिया में सबसे सस्ते हैं। भारतीय वैक्सीन कोविशिल्ड और कोवसिन की कुल लागत 250 रुपये प्रति डोज रखी गई है, जिसमें से 150 रुपये इस वैक्सीन की लागत है और 100 रुपये सर्विस चार्ज है। इस कीमत पर भारत के निजी अस्पतालों में लोगों को टीका लगाया जा रहा है।वर्तमान में दुनिया के 9 देशों ने कोरोना वैक्सीन बनाने में सफलता प्राप्त की है, लेकिन कीमत के मामले में सबसे सस्ता भारतीय टीका है। जबकि चीनी वैक्सीन सबसे महंगी है, चीनी वैक्सीन (कोरोनावैक) की एक खुराक की कीमत 2,200 रुपये है। इसे चीनी कंपनी Synovac ने बनाया है। अमेरिकन वैक्सीन (BNT-162) की भारतीय मुद्रा में लागत 1400 रुपये से अधिक है। इसे अमेरिकी कंपनी फाइजर ने बनाया है। जबकि यूरोपीय संघ द्वारा बनाए गए टीके (mRNA-1273) की एक खुराक की कीमत 1300 रुपये है।
Tags

live