जागरूकता से ही संभव है कैंसर से निदान: डॉ. अरविंद - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

जागरूकता से ही संभव है कैंसर से निदान: डॉ. अरविंद

Share This
कैंसर जागरूकता एवं मध निषेध प्रशिक्षण शिविर में सैकड़ों ग्रामीण चिकित्स्क हुए शामिल

अनूप नारायण सिंह 
मिथिला हिन्दी न्यूज :-पटना। बुद्धा कैंसर सेंटर, पटना सह जन जीवक कल्याण संघ के तत्वावधान में कैंसर जागरूकता सह मध निषेध अभियान का एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन रविवार को रूबी मैरेज हॉल, बख्तियारपुर, पटना  में किया गया। इस प्रशिक्षण शिविर का उद्धघाटन बुद्धा कैंसर सेंटर, पटना के वरिष्ठ चिकित्सक व प्रसिद्ध कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. अरविंद कुमार ने किया। इस अवसर पर कार्यक्रम आयोजक महेंद्र प्रसाद, डाॅ रविन्द्र कुमार शर्मा, डॉ. रविन्द्र ठाकुर, डॉ. मो. गुलाम शब्बीर आलम, डॉ. कौशलेंद्र कुमार, डॉ. परवेज अख्तर, रंजीत कुमार विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल हुए।

इस सेमिनार में बुद्धा कैंसर सेंटर, पटना के वरिष्ठ चिकित्सक व प्रसिद्ध कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. अरविंद कुमार ने ग्रामीण चिकित्सकों को कैंसर पीड़ितों के शुरुआती दौर के कैंसर को कैसे पकड़ें उसपर उन्हें जागरूक किया और उन्हें प्रशिक्षित किया। सेमिनार को सम्बोधित करते हुए डॉ. अरविंद ने बताया कि बिहार ग्राम प्रधान राज्य है, यहाँ ग्रामीण स्वास्थ्य को बेहतर करने की आवश्यकता है जिसके लिए ग्रामीण चिकित्सकों का जागरूक होना बहुत जरुरी है।
कार्यक्रम में उन्होने 80 -20 के फार्मूला के अनुसार उपस्थित चिकित्सकों को समझाने का प्रयास किया की अगर कैंसर का पता पहले स्टेज में पता लग जाता है तो 80 प्रतिशत बचने का चांस रहता है जबकि तीसरे और चैथे स्टेज में पता लगता है तो 20 प्रतिशत बचने का चांस रहता है। अमेरिका जैसे देशों में 80 प्रतिशत लोगों में पहले स्टेज में ही बीमारी का पता लग जाता है इसलिए वहां 80 प्रतिशत लोग ठीक हो जाते है। जबकि हमारे देश में 80 प्रतिशत लोगों में तीसरे और चैथे स्टेज में बीमारी का पता लगता है इसलिए 20 प्रतिशत लोग ही बच पाते है। उन्होंने कहा कि बिहार में कैंसर के मरीज अधिकतर एडवांस स्टेज (चैथे स्टेज) में इलाज के लिए पहुंचते हैं जिसमें उनके बचने की संभावना कम होती है। उन्होंने कहा कि ज्यादातर मरीज ग्रामीण क्षेत्र से इलाज के लिए पटना आते हैं या बिहार से बाहर जाते हैं। मगर ग्रामीण चिकित्सकों को मरीज के कैंसर के शुरुआती दौर का शक हो तो वो उन्हें हायर सेंटर भेज सकते हैं ऐसे में मरीज का कैंसर जड़ से खत्म किया जा सकता है। डॉ. अरविंद ने सेमिनार में कैंसर से सम्बंधित जानकारियों को विस्तारपूर्वक बताया। बिदित हो की डॉक्टर अरविन्द बिहार के पहले डीएम मेडिकल ऑन्कोलॉजी है वो भी । AIIMS DELHI  से है।
प्रशिक्षण के बाद ग्रामीण चिकित्सकों को बुद्धा कैंसर सेंटर, पटना द्वारा बेसिक ट्रेनिंग सर्टिफिकेट भी दिया गया। वहीं जनजीवक कल्याण संघ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रविन्द्र कुमार शर्मा ने बताया कि इस सेमिनार में बख्तियारपुर के ग्रामीण चिकित्सकों सहित पटना के भी चिकित्सक शामिल हुए।

live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages