बिहार के इन प्रसिद्ध शिव मंदिरों में पूजा करने से पूरी होती है सभी मनोकामना - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

बिहार के इन प्रसिद्ध शिव मंदिरों में पूजा करने से पूरी होती है सभी मनोकामना

Share This
अनूप नारायण सिंह 

■मुजफ्फरपुर का गरीब नाथ मंदिर में हर साल सावन में लाखो श्रद्धालु कावड़ ले के आते है! बाबा के भक्त सोनपुर के पास पहलेजा घाट से दक्षिण वाहिनी गंगा का पवित्र गंगा जल ले के सोनपुर हाजीपुर के रास्ते 65 KM की यात्रा नंगे पाँव पूरी कर के बाबा को जल चढ़ाते है! यह बिहार की सबसे लम्बी दुरी की कावड़ यात्रा है!
■हरिहर नाथ, पावन नारायणी नदी के तट पे भगवान हरी और हर का एक पौराणिक मंदिर है! यहाँ पौराणिक कथा के अनुसार गज और ग्राह की लड़ाई हुए थी, जिसमे खुद भगवान् विष्णु ने आ के गज की सहायता की थी! बाबा गरीब नाथ कावड़ ले के जाने बाले श्रद्धालु हरिहर नाथ पे जल चढ़ाना नहीं भूलते! कार्तिक पूर्णिमा से लगभग एक महीने के लिए यहाँ मेला लगता है! यह मेल सोनपुर मेला या छत्तर मेला के नाम से मसहूर है!
■ज़मीन के अंदर से शिव लिंग मिलने के कारण इस मंदिर का नाम पतालेश्वर है! सावन में मंदिर प्रांगण में हर सोमवार को सोमवारी मेला लगता है! शहर के कई जगहों में बच्चे अपने घर के आगे आकर्षक सोमवारी सजाते है! शिवरात्रि पे यहाँ एक झांकी निकाली जाती है जो पतालेश्वर मंदिर से सुरु होती है!
■ब्रह्मेश्वर नाथ मंदिर बक्सर जिले में स्थित है। ब्रह्मपुर का मतलब संस्कृत में “ब्रह्मा के शहर” है। भगवान शिव का शिवलिंग वर्ष सैकड़ों वर्ष पुराना है! ब्रह्मेश्वर नाथ मंदिर के कारन इस जगह का नाम ब्रह्मपुर पर है !
5. शिव मंदिर, बराबर (मखदुमपुर)
■गया से लगभग 24 KM दूर मखदुमपुर जिला में एक पहाड़ी पे यह मंदिर है! ऐसे बराबर अपने पौराणिक गुफा के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है! सावन के महीने में श्रद्धालु यहाँ यहाँ आके भगवान् शिव पे जल चढ़ते है! अब तो पहाड़ी ले जाने के जिए सीढ़िया बन गए है, जिससे श्रद्धालु के यहाँ आने में परेशानी कम गई है, पर जब सीढ़िया नहीं थी और यहाँ आने के लिए पास के रेलवे स्टेशन बेला से पैदल चल के आना परता था, तब भी उनका उत्साह कम नहीं होता था, उस समय लोग अपने साथ खाने का सामन और पिने के लिए पानी ले के आते थे और रात्रि में लोग यही रुकते थे! पर अब सुबिधा बढ़ गए है, पास के स्टेशन, बेला और मखदुमपुर से यहाँ आने के लिए सवारी गाड़ी मिल जाती है!
■कैमूर जिला में मुंडेश्वरी पहाड़ी पे मुंडेश्वरी मंदिर है! यहाँ भगवान शिव और माता सकती की पूजा होती है! यह बिहार का सबसे पुराना मंदिर है! नवरात्री में यहाँ में मेला भी लगता है!
■मधुबनी से 9KM दूर एक छोटे से गाँव में भगवान शिव का है, कपिलेश्वर मंदिर के कारन ही इस गांव कपिलेश्वर परा । विशेष रूप से श्रावण के महीने के दौरान सोमवार को असाधारण भीड़ होती है। महाशिवरात्रि के अवसर पर मंदिर में एक बहुत बड़ा मेला लगता है।
■खुदनेश्वर मंदिर समस्तीपुर जिला के मोरवा में है! इस मंदिर का नाम एक मुस्लिम औरत खुदनी के नाम पर है जिसे शिव लिंग 14 वी शताब्दी में मिला था! अभी जो मंदिर है उसे नरहन एस्टेट के द्वारा 1858 में बनाया गया था!

live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages