अपराध के खबरें

मुजफ्फरपुर के फकुली ग्राम में पहले पोर्टेबल आंगनबाड़ी केंद्र का हुआ उद्घाटन

- बाढ़ग्रस्त इलाकों के लिए होगा वरदान
- आपदा के समय कहीं भी स्थानांतरित किया जा सकता
- भविष्य में ऐसे और आंगनबाड़ी केंद्र का होगा निर्माण

प्रिंस कुमार 
मुजफ्फरपुर,17 मार्च | जिले के कुढ़नी प्रखंड के फकुली ग्राम में राज्य के पहले पोर्टेबल आंगनबाड़ी केंद्र का उद्घाटन आपदा विभाग के एडीएम डॉ अजय कुमार ने बुधवार को किया। इस पोर्टेबल आंगनबाड़ी केंद्र को आरईसीएफ एवं सेलको फाउंडेशन की सहायता से बनाया गया है। इस आंगनबाड़ी केंद्र की विशेषता है कि इसे आपदा के समय कहीं भी स्थानांतरित किया जा सकता है। इस केंद्र में 40 बच्चों के बैठने की व्यवस्था है। मौके पर जिलाधिकारी ने टेली कांफ्रेंस के माध्यम से कहा कि सेलको की तरफ से पब्लिक इंफ्रास्ट्रक्चर हेल्थ और आंगनबाड़ी सेंटर में विकास किया जाएगा। यह पोर्टेबल केंद्र किसी भी आपदा की परिस्थिति में सेवा प्रदान करेगी। वहीं आपदा प्रबंधन के एडीएम डॉ अजय कुमार ने कहा कि यह सेंटर क्षेत्रीय लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा तथा भविष्य में ऐसे ही सेंटर से सभी लोग लाभांवित हो पायेंगे । सेलको से सीईओ हरीश हांडे ने कहा कि हमने ऐसे आंगनबाड़ी का प्रयोग दो साल पहले ही किया था। इस आंगनबाड़ी केंद्र से बच्चों के पठन पाठन के साथ पोषण और टीकाकरण की सुविधाएं भी मिल पाएंगी । 

पूरा क्षेत्रफल 600 वर्गफीट है, आंगनबाड़ी के कार्यों के लिए पर्याप्त जगह
निर्माण कार्य से जुड़े भोलानाथ कहते हैं कि इसके निर्माण में आंगनबाड़ी के प्रत्येक कार्यों के लिए पर्याप्त जगह है। इसका पूरा क्षेत्रफल 600 वर्ग फीट है। इस केंद्र को खोलकर एक जगह से दूसरे जगह आसानी से ले जाया जा सकता है। इसे जहां लगाना होता है वहां बस जमीन को समतल किया जाता है। फिर इसे आसानी से सेट किया जा सकता है। इसके अंदर टीबी, लाइट, दो बाथरुम, किचन और विभिन्न तरह के फर्नीचर भी लगे होते हैं। इसके सारे उपकरणों को बिजली की मदद से चलाया जाता है। बच्चों के खेलने के लिए इसके आगे लॉन की भी व्यवस्था होती है। इस आंगनबाड़ी केंद्र के मेटेरियल की खासियत है कि गर्मी के दिनों में यह तापमान को भी काफी कम करता है वहीं ठंड के मौसम में भी यह बाहर के तापमान का असर नहीं होने देता। 

बाढ़ग्रस्त इलाकों के लिए होगा वरदान
आईसीडीएस की डीपीओ ललिता कुमारी ने कहा कि पोर्टेबल मॉडल आंगनबाड़ी मुजफ्फरपुर के उन इलाकों के लिए वरदान साबित होगा जहां बाढ़ जैसी त्रासदी आती है। वहां इसे आसानी से किसी जगह इंस्टॉल कर पोषण व टीकाकरण, गोदभराई, आरोग्य दिवस सत्र को मनाया जा सकता है। मुझे यकीन है कि यह जिले के नैनिहालों के पोषण में जरूर क्रांति लाएगी । मौके पर आईसीडीएस ललिता कुमारी, नीति आयोग से अनुश्री, सीडीपीओ राजेश, आरइसीएफ से अनिल कुमार, सेलको फाउंडेशन के चीफ मैनेजर अमोघ, बिहार सीनियर मैनेजर भोलानाथ प्रसाद, फकुली मुखिया पार्षद सहित अन्य लोग मौजूद थे।

live