मेहनत के बल पे अपने तकदीर की तस्वीर बदल रहा एक मिसाल हैं मिथुन राज - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

मेहनत के बल पे अपने तकदीर की तस्वीर बदल रहा एक मिसाल हैं मिथुन राज

Share This
अनूप नारायण सिंह 
मिथिला हिन्दी न्यूज :- वक्त वक्त पर बदलाव जरूरी हैं तभी तो जिंदगी का दौर बदलेगा हमारी जन्म हमारे हाथ में नहीं पर जिंदगी कैसी हो इस तकदीर की तस्वीर तय करना जरूर हमारे कर्मों पर निर्भर करता हैं ये बात कहना आसान हैं लेकिन करना बहुत मुश्किल लेकिन कुछ लोगों में मिथुन राज जैसा जज्बा होता हैं जो अपने कर्मों से तकदीर की तस्वीर बदल देते हैं ।
मिथुन राज का जन्म पटना के पतूत पंचायत के पकरंधा गांव के एक निम्नवर्गीय परिवार में हुआ, किसान परिवार का बेटा बचपन से ही रंगीन दुनियां के सपने देखने लगा फिल्मों में गहरी दिलचस्पी ने जिंदगी का रुख हमेशा के लिए फिल्मों की ओर मोड़ दिया परिवार अपेक्षाओ के विपरीत मिथुन ने बड़े शहर की ओर चले गए जहां करियर की दिशा तय होने वाली थी पर नादान मन के द्वारा लिया निर्णय इतना आसान कहां होना था बड़े शहर में काफी धोखे खाने के बाद धीरे धीरे उम्मीद टूटने लगी उसी समय एक नजदीकी दोस्त सुवेष की सलाह पर यशी फिल्म्स ट्रेनिग इन्स्टिट्यूट में फिल्म निर्माण ऐक्टिंग के साथ और भी कला सीखा ट्रेनिग के दौरान अनिकेत और सुरेश जैसे दोस्तों का साथ मिला जिन्होने करियर निखारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी फिर नये सिरे से करियर की शुरुवात कर जल्दी ही ये मेहनत रंग लायी बड़े चैनेल पर नामी प्रोग्राम से जुड़ने का मौका मिला और नयी नयी जिम्मेदारी मिलते चले गए अपनी मेहनत और लगन से सफलता की नयी सीढ़ी चढ़ने लगे आज बड़े बड़े प्रॉडक्ट्सन हाउस से मिथुन राज को बुलाया जाता हैं और सुप्रसिद्ध कार्यक्रमों का हिस्सा बन चुके हैं मिथुन राज फिल्म इंडस्ट्री में अपना गुरु अभय सिन्हा को मानते हैं जिन्होने करियर को सही दिशा दिखाया और इस काबिल बनाया यशी फिल्म्स के पंकज तिवारी हमेशा मिथुन का पथप्रदर्शन करते हुए आज अभीभावक की तरह काम करने के नये नये आधुनिक विधियां सिखाते हैं इसके वजह से ही वो आज अपने समाज के लिए आदर्श बन सके हैं ।
आज मिथुन राज गंगा चैनेल के बिग मेमसाब ,मेमसाब no. 1 ,
एंटरटेनमेंट का मेला, रोज होई भोज जैसे बड़े कार्यक्रमों के हर सीजन में फ्लोर डाइरेक्शन का कार्य निरंतर देख रहे हैं इसके अलावा नये उभरते कलाकारों के लिए बड़े मंच उपलब्ध करवा रहे हैं ।
 हाल ही में अपनी राजनीतिक शुरुवात भाजपा कला संस्कृति प्रकोष्ठ के लोक संगीत विभाग पटना महानगर से कर चुके हैं बदलाव को अपने जीवन का अंग मान चुके मिथुन का मानना हैं एक विकासशील सोच से समाज की सेवा की जा सकती हैं सशक्त निर्णय से बिहार राज्य में कलाकारों के बड़े मौके उपलब्ध करवाया जा सकता हैं सरकार और कलाकार के बीच का समन्वय एक सच्ची मानसिकता के साथ चलने वाला दल ही कर सकता हैं इसी निश्चय के साथ राजनीति में प्रवेश कर रहे हैं ।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages