अपराध के खबरें

चैती छठ महापर्व नहाय-खाय के साथ कल से होगा शुरु, जानिए छठ का क्यों है महत्व

प्रिंस कुमार 

पटना. लोक आस्था के महापर्व चैती छठ (Chaiti Chhath Puja 2021) का चार दिवसीय अनुष्ठान चैत्र शुक्ल चतुर्थी यानी 16 अप्रैल से नहाय खाय के साथ शुरू हो रहा है. छठ पूजा मुख्य रूप से प्रत्यक्ष देव भगवान भास्कर की उपासना का पर्व है. वर्ष में कुल दो छठ महापर्व होते हैं जिसमें पहला चैत्र मास में, तो दूसरा कार्तिक मास में आता है. यही नहीं, पौराणिक मान्यताओं के अनुसार छठ सूर्यदेव की बहन हैं.

मान्यता है कि छठ पर्व में सूयोर्पासना करने से छठ माता प्रसन्न होती है और परिवार में सुख, शांति, धन, धान्य से परिपूर्ण करती है. हालांकि इस बार कोरोना की बढ़ती रफ्तार के कारण गंगा घाटों पर जाकर अर्ध्य देने पर पाबंदी है. जबकि पटना जिलाधिकारी ने इस बाबत निर्देश भी जारी किए हैं.

छठ महापर्व पर ग्रह गोचरों का शुभ संयोग

भारतीय ज्योतिष विज्ञान परिषद के सदस्य ज्योतिषाचार्य डॉ. श्रीपाती त्रिपाठी के मुताबिक, 16 अप्रैल को रवियोग और सौभाग्य योग के युग्म संयोग में नहाय खाय के साथ छठ महापर्व का चार दिवसीय अनुष्ठान शुरू होगा. 17 अप्रैल को शोभन योग में खरना की पूजा होगी और 18 अप्रैल को रविवार दिन के साथ रवियोग में भगवान भास्कर को सायंकालीन अर्घ्य तथा सुकर्मा योग में व्रती प्रात:कालीन अर्घ्य देकर व्रत को पूर्ण करेंगे. यह पर्व पारिवारिक सुख समृद्धि और मनोवांछित फल की प्राप्ति के लिए व्रती पूरे विधि विधान से छठ का व्रत करेंगी. इस पर्व को करने से रोग, शोक भय आदि से मुक्ति मिलती है. छठ व्रत करने की परंपरा ऋग्वैदिक काल से ही चली आ रही है.

आरोग्यता व संतान के लिए उत्तम है छठ व्रत

आचार्य डॉ. श्रीपाती त्रिपाठी के अनुसार सूर्य षष्ठी का व्रत आरोग्यता सौभाग्य और संतान के लिए किया जाता है. स्कंद पुराण के मुताबिक, राजा प्रियव्रत ने भी यह व्रत रखा था. उन्हें कुष्ठ रोग हो गया था. भगवान भास्कर से इस रोग की मुक्ति के लिए उन्होंने छठ व्रत किया था. स्कंद पुराण में प्रतिहार षष्ठी के तौर पर इस व्रत की चर्चा है. वर्षकृत्यम में भी छठ की चर्चा है.

नहाय खाय एवं खरना के प्रसाद से दूर होते कष्ट

आचार्य श्रीपाती त्रिपाठी के अनुसार, छठ महापर्व के प्रथम दिन नहाय खाय में लौकी की सब्जी,अरवा चावल, चने की दाल और आंवला की चाशनी के सेवन का खास महत्व है. वैदिक मान्यता है कि इससे पुत्र की प्राप्ति होती है. वही, वैज्ञानिक मान्यता है कि गर्भाशय मजबूत होता है. खरना के प्रसाद में ईख के कच्चे रस, गुड़ के सेवन से त्वचा रोग और आंख की पीड़ा समाप्त हो जाती है. वहीं इसके प्रसाद से तेजस्विता, निरोगिता व बौद्धिक क्षमता में वृद्धि होती है.

स्वस्थ जीवन के लिए जरूरी है छठ

पटना के प्रमुख ज्योतिष विद्वान डॉ. श्रीपाती त्रिपाठी बताती हैं कि इस मौसम में शरीर में फॉस्फोरस की कमी होने के कारण शरीर में रोग ( कफ सर्दी जुकाम ) के लक्षण परिलक्षित होने लगते हैं. प्रकृति में फॉस्फोरस सबसे ज्यादा गुड़ में पाया जाता है जिस दिन से छठ शुरू होता है उसी दिन से गुड़ वाले पदार्थ का सेवन शुरू हो जाता है. खरना में चीनी की जगह गुड़ का ही प्रयोग किया जाता है. इसके साथ ही ईख गागर एवं अन्य मौसमी फल प्रसाद के रूप प्रयोग किया जाता है.

प्रत्यक्ष देव भास्कर को प्रिय है सप्तमी तिथि

वहीं, पंडित कृष्णा उपाध्याय ने बताया कि प्रत्यक्ष देव भगवान भास्कर को सप्तमी तिथि अत्यंत प्रिय है. विष्णु पुराण के अनुसार तिथियों के बंटवारे के समय सूर्य को सप्तमी तिथि प्रदान की गई इसलिए उन्हें सप्तमी का स्वामी कहा जाता है. सूर्य भगवान अपने इस प्रिय तिथि पर पूजा से अभिष्ठ फल प्रदान करते हैं.

गंगा घाटों पर छठ करने की अनुमति नहीं

बिहार में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस वर्ष भी सरकार और पटना के जिलाधिकारी डॉ. चंद्रशेखर ने पटना के गंगा घाटों तलाबों में छठ अर्ध्य नहीं देने की अपील छठव्रतियों से की है. इसके लिये पटना और आसपास के सभी गंगा घाटों तलाबों पर पुलिसबलों की तैनाती भी कर दी है.

live