अपराध के खबरें

नवादा में पहली बरसात ने पुस्तकालय भवन के छत की दिखाई दुर्दशा , एक माह पूर्व हुआ था उद्घाटन

आलोक वर्मा 

हिसुआ (नवादा): सरकारी राशि का बंदरबांट कर निर्माण कराया गया पुस्तकालय पहली हीं बरसात में दुर्दशा दिखा दिया है । हिसुआ प्रखंड के बगोदर गाँव में बना पुस्तकालय भवन बरसात का एक भी झोंका सहन नहीं कर सका।  सारा का सारा पुस्तकालय भवन पानी के रिसता हुआ झरना के माफिक गिर रहा है। बरसात का सारा का सारा पानी बाहर न गिरकर कमरे के अंदर में ही गिरता है। 

हालात यह है कि वर्षा के समय में उस कमरे में सर छुपाने की भी जगह नही है। बगोदर मे बने सामुदायिक भवन की मरम्मत एवं रंगाई करा पुस्तकालय भवन खोला गया था।इसके रंगाई एवं मरम्मत पर तकरीबन 3 लाख रुपये खर्च हुआ थ। तीन लाख रूपये खर्च के बाद भी सारा पानी पुस्तकालय भवन में ही गिरता है। ग्रामीणों ने बताया कि मार्च के अंतिम सप्ताह में पुस्तकालय भवन का उद्घाटन सदर अनुमंडल पदाधिकारी उमेश कुमार भारती ने किया था। उद्घाटन के समय प्रखंड विकास पदाधिकारी डॉ. मृत्युजंय कुमार,  सीओ नितेश कुमार, प्रयास प्रमुख ललिता देवी सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे। 

मात्र दो माह पूर्व जिस पुस्तकालय भवन का उद्घाटन हूआ था उसका यह हसन होगा, लोगों ने सपनों में भी नहीं सोचा था। उद्घाटन के समय जो 25-30 पुस्तके उपलब्ध कराया गया था, अबतक एक भी पुस्तक सरकार से पुनः उपलब्ध नहीं कराया गया। ग्रामीणों ने बताया कि लाॅकडाउन में इस पुस्तकालय भवन गाँव से बाहर पढने वाले या प्रतियोगिता के तैयारी करने वाले  30-35 लङके वहाॅ आपस में क्विज प्रतियोगिता या आपसी संवाद करते थे ।लेकिन तीन दिनों से लगातार होने वाली वर्षा से भवन का छत रिसने से लङकों का आपसी संवाद का आशियाना बिखर गया। इस संदर्भ में प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी ने बताया कि इसकी जांच करा भवन की पुनः मरम्मत कराई जायेगी। बताया जाता है कि गरीब एवं असहाय परिवार के बच्चों को समुचित व्यवस्था के लिए प्रत्येक पंचायत में पुस्तकालय खोलने का निर्णय लिया था।

live