हीट एप के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में पॉजिटिव मरीजों पर रखी जा रही नज़र - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

हीट एप के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में पॉजिटिव मरीजों पर रखी जा रही नज़र

Share This
- टेस्टिंग की संख्या में तेजी लाने का मिला निर्देश
- होम आइसोलेशन वाले संक्रमितों के उचित देखभाल को मिला निर्देश 

मुजफ्फरपुर । 19 मई

प्रिंस कुमार 

बैठक में ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण की अद्यतन स्थिति, उस पर प्रभावी नियंत्रण को लेकर किए जा रहे कार्य एवं कार्ययोजना,हीट- ऐप( होम आइसोलेशन ट्रैकिंग एंड्रॉइड एप्लीकेशन) के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में पॉजिटिव मरीजों की ट्रैकिंग, ग्रामीण चिकित्सकों का सहयोग, कोरोना सैंपलिंग /जांच टीकाकरण, चिकित्सीय प्रबंधन सामुदायिक रसोई,डेडीकेटेड कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था, इत्यादि से संबंधित विस्तृत समीक्षा की गयी।
 बैठक में टेस्टिंग की संख्या में और तेजी करने का निर्देश दिया गया। नोडल पदाधिकारी कोरोना जांच कोषांग ने बताया कि टेस्टिंग के संख्या में वृद्धि हुई है।वहीं ग्रामीण स्तर पर टेस्टिंग/ सेंपलिंग की व्यवस्था को और सुदृढ़ करने का निर्देश दिया गया।
 स्वास्थ्य विभाग द्वारा जानकारी दी गई कि शीघ्र ही मोबाइल टेस्टिंग वैन के माध्यम से गांव में टेस्टिंग किए जाएंगे। टीकाकरण की समीक्षा के क्रम में निर्देशित किया गया कि सेशन साइट की संख्या में वृद्धि करना सुनिश्चित किया जाए ताकि अधिक से अधिक व्यक्तियों को टीका दी जा सके।
 डेडीकेटेड कोविड केयर हेल्थ सेंटर में चिकित्सीय प्रबंधन की समीक्षा के क्रम में निर्देशित किया कि सदर अस्पताल के परिसर में कोविड मरीजों के लिए बनाए गए केंद्र पर साफ-सफाई बेहतर करें। साथ ही मेडिकल वेस्ट का डिस्पोजल निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार करें।इस संबंध में सिविल सर्जन को सख्त हिदायत दी गई कि उक्त केंद्र में प्रतिनियुक्ति सभी चिकित्सक एवं पारा मेडिकल स्टाफ तय रोस्टर के अनुसार अपने दायित्वों का निर्वहन करें। ऐसा करने में यदि कोताही होगी तो उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई करना सुनिश्चित किया जाए। 
सरकार द्वारा लॉन्च हीट एप के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में पॉजिटिव कोरोना मरीजों की ट्रैकिंग को लेकर सभी एएनएम, बीएचएम तथा अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को शीघ्र प्रशिक्षित करने का निर्देश दिया गया ताकि उक्त एप्प के माध्यम से ट्रैकिंग करते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में होम आइसोलेटेड मरीजों की समुचित देखभाल की जा सके। 
इस संबंध में स्वास्थ विभाग द्वारा जानकारी दी गई कि इस ऐप के माध्यम से वैसे कोरोना मरीज जो होमआइसोलेटेड हैं उन्हें चिन्हित करते हुए उचित देखरेख के साथ ही उन्हें समय से बेहतर स्वास्थ सुविधाएं उपलब्ध कराया जाएगा।होम आइसोलेटेड कोरोना मरीज के बारे में तत्कालिक सूचना स्थानीय पीएसी को एएनएम के द्वारा मुहैया कराई जाएगी। इससे इन रोगियों तक पहुंचने और उन्हें समय पर आवश्यक चिकित्सीय सेवा प्रदान करने में मदद मिलेगी।उक्त एप्प के द्वारा होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की ट्रैकिंग करने हेतु सभी एएनएम को शीघ्र प्रशिक्षित करने का निर्देश दिया गया है। सभी एएनएम को आवंटित क्षेत्र में एक निर्धारित संख्या में होम आइसोलेटेड रोगियों का डाटा एप के द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा और वे उन मरीजों के स्वास्थ्य की नियमित देखभाल कर सकेंगे। विशेष तौर पर मरीजों की ऑक्सीजन सैचुरेशन एवं टेंपरेचर की जांच की जाएगी। इसके शीघ्र क्रियान्वयन के निर्देश दिये गए।
इसके साथ ही सिविल सर्जन को निर्देश दिया कि रूरल मेडिकल प्रैक्टिशनर(आरएमपी)के सहयोग हेतु आवश्यक कदम उठाना सुनिश्चित करेंगे।
बैठक में उप विकास आयुक्त डॉ सुनील कुमार झा,अपर समाहर्ता आपदा डॉ अजय कुमार, सहायक समाहर्ता श्रेष्ठ अनुपम,सिविल सर्जन मुजफ्फरपुर, अनुमंडल पदाधिकारी पूर्वी एवं पश्चिमी, जिला पंचायती राज पदाधिकारी,डीपीएम के साथ जिला स्तरीय अधिकारी एवं स्वास्थ्य विभाग के अन्य पदाधिकारी तथा केयर के जिला प्रतिनिधि सौरभ तिवारी मौजूद थे।

live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages