अपराध के खबरें

अनुमंडलीय अस्पताल चकिया में एएनएम का साप्ताहिक बैठक हुआ सम्पन्न


- होम आइसोलेटेड ट्रेकिंग मोबाइल एप्प का दिया गया प्रशिक्षण 

- कोरोना पॉजिटिव मरीजो का ट्रेकिंग कर स्वास्थ्य जाँच करें एएनएम 

प्रिंस कुमार 

जिले के अनुमंडलीय अस्पताल चकिया के सभागार में उपाधीक्षक डॉ चंदन कुमार के अध्यक्षता में एएनएम का साप्ताहिक बैठक सम्पन्न हुआ । 
बैठक में उपस्थित सभी एएनएम को केयर के ब्लॉक मैनेजर कुन्दन कुमार रौशन द्वारा एच् आईं टी (होम आइसोलेटेड ट्रैकिंग)मोबाइल ऐप्प का प्रशिक्षण दिया गया । इस प्रशिक्षण में बताया गया कि सभी एएनएम अपने-अपने क्षेत्र में कोविड पॉजिटिव मरीजो की ट्रैकिंग कर उनका स्वास्थ्य जांच करेंगी। जांच के दौरान अगर रोगी में कोई गंभीर लक्षण जैसे ऑक्सिजन लेवल 94 से कम होता है तो तत्काल कोविड केअर सेंटर में उन्हें भर्ती कराएंगी। इस एप्प से रियल टाइम डेटा ब्लॉक स्तर से लेकर जिला एवं राज्य स्तर पर भी देखा जा सकेगा। चकिया अनुमंडलीय अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ चन्दन कुमार ने कहा कि जिले में बढ़ रहे कोविड के मामलों के बीच कोरोना के रोकथाम के लिए जाँच का दायरा बढ़ाना होगा । यह तभी संभव हो पायेगा जब एएनएम अपने अपने क्षेत्रों में घूमकर कोविड पॉजिटिव मरीजों का ट्रेकिंग कर उसका स्वास्थ्य जाँच करें । वही जाँच के दौरान अगर किसी का ऑक्सीजन लेवल कम दिखाई दे, कोई गंभीर लक्षण दिखे या अगर ऑक्सिजन लेवल 94 से कम हो तो उसे तत्काल कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराएं। उन्होंने बताया कि एच आई टी एप्प से होम आइसोलेट व अन्य कोरोना पोसिटिव मरीजों की ट्रेकिंग भी आसान होगी । अस्पताल उपाधीक्षक ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर काफी संक्रामक है। इससे बचने के लिए सभी को साफ -सफाई के साथ कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना होगा । इसमें सभी लोगों का टीकाकरण बेहद आवश्यक है । टीकाकरण द्वारा लोग सुरक्षित हो रहे हैं । साथ ही मास्क, सेनेटाइजर व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर हम सब कोविड से बच सकते हैं । जिले के चकिया प्रखंड क्षेत्र में कोरोना से बचाव हेतु जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है । जिसमें स्वास्थ्य कर्मियो के साथ, आशा, जीविका कार्यकर्ता,आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं जनप्रतिनिधि व केयर कर्मी काफी योगदान दे रहे हैं।
डॉ चन्दन कुमार ने निर्देशित किया कि अस्पताल की पूरी साफ सफाई हो । जाँच एवं टीकाकरण में सोशल डिस्टेंसिंग का मुख्य रुप से पालन करने की भी बात कही। टीकाकरण के साथ ही कोविड का अधिक से अधिक जाँच करने के भी निर्देश दिए ताकि कोविड संक्रमण के चेन को तोड़ने में सफलता मिल सके। उन्होंने कहा कोविड मरीजों का विशेष ख्याल रखें । गम्भीर मरीजों को तुरंत रेफर करें । सदर अस्पताल व जिला कंट्रोल से सम्पर्क बनाकर रखें । साथ ही अस्पताल अधीक्षक ने कहा कि अगर कोई भी स्वास्थ्य कर्मी अपने कार्य से अनुपस्थित पाए जाएंगे तो उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी । 
 प्रखंड के स्वास्थ्य केन्दों पर उपलब्ध दवाओं के अलावा बाकी अन्य दवाओं को अविलम्ब क्रय करने का आदेश दिया गया है।साथ ही यह भी निर्देश दिया है कि बाहर से आनेवाले सभी लोगों की कोविड का जाँच की जाए एवं मरीज को किसी प्रकार की तकलीफ होने पर उन्हें तुरन्त रेफर किया जाय । 

साफ सफाई के दिए निर्देश : अस्पताल प्रभारी को अस्पताल के प्रसव कक्ष , अस्पताल परिसर, ओटी, परिसर की पूरी साफ सफाई की जाय। उन्होंने कहा 45 वर्षों से ऊपर के लोगों का कोविड टीकाकरण करना , मास्क लगाना, बार - बार हाथ धोना और हमेशा उचित दूरी का पालन करना बेहद आवश्यक है ।

मौके पर प्रशिक्षण कार्यक्रम में 
बी सी एम धर्मेंद्र कुमार, बी एम सी यूनिसेफ सुजीत कुमार दीपक,ए एन एम प्रीति कुमारी, अनिता कुमारी,प्रेमलता हँसदा , प्रतिमा बाघवार व अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित थे।

कोविड 19 से बचने के लिए निम्न बातों का पालन आवश्यक है :

एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
- सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
- अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं।
- आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें।
- छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।

live