और आम आदमी बन गए बिहार सरकार के मंत्री - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

और आम आदमी बन गए बिहार सरकार के मंत्री

Share This
अनूप नारायण सिंह 
मिथिला हिन्दी न्यूज :- मंत्री सुमित कुमार सिंह ने पेश की अनोखी मिसाल
अति नक्सलप्रभावी जोन कहे जाने वाले सोनो प्रखण्ड के चरकापत्थर स्थित मुख्यमंत्री सामुदायिक किचन में गरीबों तथा जरूरतमंदों के लिए बन रहे भोजन की गुणवत्ता की जांच करने हेतु स्वयं केंद्र पर भोजन किया। इसके साथ ही वो एकलौते निर्दलीय विधायक के साथ साथ सामुदायिक किचन में भोजन करने वाले एकमात्र मंत्री बन गए।
ज्ञात हो कि इस कोरोना काल में वो बिहार में सबसे तत्परता के साथ काम कर रहे हैं और यही कारण है कि अभी पूरे बिहार में चर्चा का विषय बने हुए हैं। इस मौके पर माननीय मंत्री के साथ सोनो BDO ममता प्रिया और CO सोनो अनिल चौबे मौजूद थे।बिहार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री सुमित कुमार सिंह कोरोनावायरस के बीच अपने क्षेत्र के लोगों के लिए पूरी तरह सक्रिय हैं। इसी क्रम में शुक्रवार को वे अपने विधानसभा क्षेत्र चकाई जमुई के कई केंद्रों का निरीक्षण करने पहुंचे थे। मंत्री सुमित कुमार सिंह ने बताया कि सदर अस्पताल जमुई के डेडिकेटेड कोरोना वार्ड में आज मरीजों से मिलकर उनसे उनकी तबियत, उपचार एवं उनकी देखभाल के बारे में जानकारी ली। जमुई जिला हर जीवन की कोरोना से रक्षा हमारा अभी प्रथम लक्ष्य है। इसमें कोई लापरवाही मैं कदापि बर्दाश्त नहीं करूंगा। हालांकि, मेरा दर्शन रहा है टीम स्पिरिट से परिणाम तक पहुंचना। शिद्दत से प्रयत्न कर इस वैश्विक महामारी को भी मात दे, बड़ी संख्या में जिंदगी बचाना है। स्वास्थ्य कर्मियों की जमुई की टीम इस दिशा में प्रयत्नशील है। मैंने वहां उपस्थित सिविल सर्जन विनय कुमार शर्मा जी को बताया कि कोरोना मरीज की अगर समुचित देखभाल हो तो उनकी रिकवरी अधिक आसान होती है। इसलिए हर परिस्थिति में उपचार के साथ-साथ खान-पान का पूरा ध्यान रखा जाना चाहिए। इस बार ऐसा देखने में आया है कि घर पर रहकर जिनका उपचार हुआ इसमें प्रायः लोग शीघ्र स्वस्थ हो गए। इसकी वजह है घर पर उपचार के साथ- साथ उनकी बढ़िया से तीमारदारी हुई। अमूमन अस्पतालों के बारे में यह शिकायत होती है कि वहां मरीजों की देखभाल में कमी होती है, नर्स एवं अन्य मेडिकल कर्मी कोरोना संक्रमित हो जाने के भय से समुचित देखभाल नहीं करते हैं। खान-पान, साफ-सफाई, शौचालय की स्वच्छता, शुद्ध गर्म पेयजल आदि की व्यवस्था अच्छी रहनी चाहिए, उनके प्रति व्यवहार मधुर हो। उनमें जीवन के प्रति भरोसा जगाना आवश्यक होता है। इसका हमेशा ख्याल रखना चाहिए। वैसे जमुई सदर अस्पताल में स्थिति बहुत बेहतर हैं, यहां स्वास्थ्यकर्मी इस मामले में काफी संवेदनशील हैं। सिविल सर्जन विनय जी ने मुझे भरोसा दिया कि बेहतर से बेहतरीन व्यवस्था हो सके इसका पूरा प्रयास करेंगे। मंत्री सुमित कुमार सिंह ने कहा कि वहां मुझे कोरोना प्रोटोकॉल के तहत पीपीई किट पहन कर जाना पड़ा। ऐसे भी एक जिम्मेदार जनप्रतिनिधि के नाते हर किसी सुरक्षा का ख्याल रखें। मैं संक्रमण रोकने में सहायक बनूं, उसे फैलाने में वाहक न बनूं! अपने से अधिक अपने साथ वालों की फिक्र रहती है, इसलिए कोविड प्रोटोकॉल का मैं पूर्ण अनुपालन करता हूं। हालांकि, अपने जनता जनार्दन की जीवन रक्षा के लिए मैं कोई भी खतरा मोल ले सकता हूं। इस अवसर विनय जी के अलावा अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ नौशाद जी, डीपीएम सुधांशु नारायण लाल जी, जिला मूल्यांकन पदाधिकारी मुकेश सिंह जी, आइसोलेशन एवं डेडिकेटेड वार्ड प्रभारी डॉ कृष्णमूर्ति जी, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अभिषेक गौरव जी, सदर हॉस्पिटल के प्रबंधक रमेश पांडेय जी और डॉ देवेंद्र प्रसाद जी आदि उपस्थित थे।

live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages