अपराध के खबरें

नीतीश सरकार की बड़ी मुसीबत मांझी की नई डिमांड, मांग नहीं होगी पुरी तो छोड़ेंगे एनडीए

संवाद 

मिथिला हिन्दी न्यूज :- कोरोना का कहर ठोड़ी सी ठीक हुई तो बिहार के राजनीति में उफान आ गया है। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने नीतीश सरकार के सामने  एक नई मुसीबत बढा दिया है मांझी ने सरकार से कोरोना की दूसरे लहर में 1 करोड़ बेरोजगार हुए लोगों को 5-5 हजार रुपए महीना देने की मांग की है. भले ही एनडीए में रहने की घोषणा कर दी हो लेकिन अनुमान लगाया जा रहा है कि वे सरकार के लिए मुसीबत खड़ी करते रहेंगे। विपक्ष का दावा है कि मांझी विपक्ष की ही मांगों को उठा रहे हैं. ऐसे में अगर उनकी मांगें नहीं मानी जाती है तो वो कोई निर्णायक फैसला लें। ऐसे में अगर सरकार जीतन राम मांझी की डिमांड को मान लेती है तो 1 करोड़ बेरोजगार लोगों को 5 हजार रुपए  देने में सरकार को हर महीने 50 अरब का खर्च आएगा. इसी तरह से इसका आकंड़ा अगर एक साल का जोड़ लिया जाए तो इस वित्तीय बोझ को उठाना सरकार के लिए आसान नहीं होगा। वैसे भी बिहार सरकार बेरोजगारी भत्ता एक हजार प्रति माह देती ही है। 

live