अपराध के खबरें

क्या आप राजनिति में प्रवेश कर रह है पहले अपने जन्म कुंडली का अध्यन कर लें

पंकज झा शास्त्री

राजनीती में जाने के लिए कुंडली में राजनीतिक सफलता का योग होना अनिवार्य है। इसके लिए कुंडली में ग्रहों की अनुकूलता और योग को देखा जाता है। वैदिक ज्योतिष की दृष्टि से दशम भाव को राज्य सत्ता का स्थान कहा जाता है और इसी स्थान से राजयोग की विशिष्ट जानकारी भी ज्ञात की जा सकती है। 
‘राजनीति’ दो शब्दों से मिलकर बना है जिसका अर्थ है, एक ऐसा शासक जिसकी नीतियां व राजनैतिक गतिविधियां इतनी परिपक्व व सुदृढ़ हों, जिसके आधार पर वह अपनी जनता का प्रिय शासक बन सके और अपने कार्यक्षेत्र में सम्मान और प्रतिष्ठा प्राप्त करता हुआ उन्नति की चरम सीमा पर पर पहुंचे। राजनीति का मुख्य कारक ग्रह कूटनीतिज्ञ ‘राहु’’ है, जो सर्प योग के लिये तो जिम्मेदार है ही, साथ ही छलकपट भी करवाता है। 
राहु ग्रह कुंडली में बली अर्थात उच्च, मित्रराशि आदि में स्थित होकर केंद्र, त्रिकोण के अलावा 2, 3, 10, 11 भाव में स्थित हो तो प्रबल योग बनता है। यदि राहु शत्रु राशिगत आदि हो तो, त्रिक भाव 6, 8, 12 में स्थित हो तो राजनीति में सफलता नहीं देता है। इसके अलावा ग्रहों का राजा सूर्य, देवगुरु बृहस्पति और मंगल का बली होना भी आवश्यक है। 

ज्योतिष,हस्तलिखित जन्म कुंडली, वास्तु, पूजा पाठ, माहा मृत्युंजय जाप एवं अन्य धार्मिक अनुष्ठानों के लिए संपर्क कर सकते हैं।
विषेश  हमारे द्वारा हस्तलिखित जन्म जन्म कुंडली देश, विदेश के किसी भी कोने में आप तक पोस्ट द्वारा पहुंचाने की सुविधा है साथ ही ज्योतिषीय परामर्श हेतु किसी भी प्रकार के मेरे द्वारा शुल्क की मांग नही की जाती। फोन पर ज्योतिषीय परामर्श हमसे न लें।
Tags

live