अपराध के खबरें

गणेश चतुर्थी पर बन रहा है 6 ग्रहों का शुभ संयोग, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त

पंकज झा शास्त्री 
मिथिला हिन्दी न्यूज :- भाद्रपद मास में मनाए जानें बाला माहा पर्व गणेश चतुर्थी इस बार 10/09/2021 शुक्रवार को मनाई जाएगी, जो भगवान ऋद्धि सिद्धि के देवता श्री गणेश को समर्पित है। प्रथम पूज्य भगवान श्री गणेश की पूजा अर्चना करना इस दिन अति लाभकारी है।
इस दिन मिथिलांचल में श्री गणेश के पूजा अर्चना के बाद चौठ चन्द्र की पूजा भी किया जाता है जिसे मिथिला में चौरचंद के नाम से जाना जाता है। माना जाता है चंद्रमा के द्वारा श्री गणेश का मजाक उड़ाया गया जिस कारण गणेश ने चन्द्रमा को श्राप दिया, इस से चंद्रमा की चमक फीकी पड़ने लगी। चन्द्रमा को श्राप मुक्ति हेतु देवताओं ने गणेश को मनाने को कहा, चंद्रमा ने फल, फूल , मोदक की लड्डू एवं अन्य पकवान के साथ गणेश की स्तुति की जिसके बाद गणेश ने श्राप मुक्त किए।
ज्योतिष के जानकार पंडित पंकज झा शास्त्री के अनुसार गणेश चतुर्थी पर इस बार 6 ग्रहों का शुभ संयोग बन रहा है, जो व्यापारियों के लिए अतिलाभकारी होगा. चतुर्थी पर इस बार छह ग्रह अपनी श्रेष्ठ स्थिति में होंगे, जिसमें बुध कन्या राशि में, शुक्र तुला राशि में, राहु वृषभ राशि में, शनि मकर राशि में, केतु वृश्चिक राशि तथा शनि मकर राशि में विद्यमान होंगे. ग्रहों की ये स्थिति कारोबार करने वाले जातकों के लिए शुभ है. व्यापारी वर्ग के मुनाफे में बढ़ोत्तरी होगा और शेयर बाजार में भी लाभ होगा. 

वहीं गणेश चतुर्थी पर इस बार रवियोग में पूजन होगा. लंबे समय बाद इस बार चतुर्थी पर चित्रा-स्वाति नक्षत्र के साथ रवि योग का संयोग बन रहा है. चित्रा नक्षत्र शाम 4.59 बजे तक रहेगा और इसके बाद स्वाति नक्षत्र लगेगा. वहीं 9 सितंबर दोपहर 2 बजकर 30 मिनट से अगले दिन 10 सितंबर 12 बजकर 57 मिनट तक रवियोग रहेगा, जो कि उन्नति को दर्शा रहा है. इस शुभ योग में कोई भी नया काम और गणपति पूजा मंगलकारी होगी. 

सहर के जानें माने ज्योतिष के जानकार पण्डित पंकज झा शास्त्री ने बताया कि इस दिन पूजा का शुभ मुहुर्त 10/09/2021 शुक्रवार मध्याह्न काल में है वैसे तो तिथि की शुरुआत गुरूवार के रात्रि 02::22 के उपरांत होगा जबकि तिथि का समापन शुक्रवार के रात्रि 12:20 बजे होगा।
उपरोक्त समय सारणी में अपने अपने क्षेत्रिय पंचांग अनुसार कुछ अंतर हो सकता है।

live