अपराध के खबरें

वैशाली लोकसभा क्षेत्र से ताल ठोक सकते हैं पारु विधायक अशोक सिंह?

अनूप नारायण सिंह 
मिथिला हिन्दी न्यूज :- अभी फिलहाल बिहार में ना तो विधानसभा का चुनाव है ना लोकसभा का चुनाव है पर वैशाली लोकसभा क्षेत्र में जो बात सबसे ज्यादा चर्चा में है वह है की लोकसभा का एनडीए का प्रत्याशी कौन होगा। कभी लोजपा के टिकट पर सांसद बने और फिलहाल राजद की लालटेन जला रहे रामा सिंह का अगले लोकसभा चुनाव में वैशाली से राजद का टिकट कंफर्म है।वही दूसरी तरफ वर्तमान सांसद वीणा देवी पशुपति पारस की अगुवाई वाली लोजपा मे है। पर अब इंडिया के नेता ही उनका विरोध करने लगे है।भाजपा ने वैशाली लोकसभा क्षेत्र में अपने संगठन को पहले से ज्यादा मजबूत बनाया है।लालगंज विधानसभा का चुनाव जीते संजय सिंह इसी सांगठनिक ताकत के परिणाम स्वरूप कमल खिलाने में सफल हुए हैं। संगठन स्तर पर भी पारू विधायक अशोक सिंह सबके चहेते रहे हैं तमाम अटकलों के बीच वैशाली लोकसभा क्षेत्र में भाजपा की पारू सबसे कंफर्म सीट है। कोरोना संकट के बीच मरने वाले लोगों के शव दाह में आगे आने पर जिस तरह से राष्ट्रीय स्तर तक अशोक सिंह का चेहरा चमका है उसके बाद क्षेत्र में उनमें भावी सांसद की छवि देखा जाने लगा है। वैशाली लोकसभा क्षेत्र में रघुवंश बाबू के निधन के बाद राजद में रामा सिंह का चेहरा सबसे बड़ा है वहीं दूसरी तरफ एनडीए में सबसे पुराने विधायक के रुप में अशोक सिंह का ही चेहरा है। अशोक सिंह कहते हैं कि वह संगठन वाले पार्टी में है भले क्षेत्र की जनता उन्हें बार-बार विधायक बनाती हो पर वह खुद को एक आम कार्यकर्ता ही मानते हैं लोगों के शादी ब्याह सुख दुख जीवन मरण में वह सदा क्षेत्र के बेटा के रूप में खड़े रहते हैं उन्होंने कहा कि आप पारू विधानसभा में पता लगा लीजिए किसी भी गरीब की बेटी की शादी होती है उसे अपने बेटी का शादी मानकर करवाता हूं चाहे वह पक्ष हो या विपक्ष हो किसी भी कार्य में कोई भेदभाव नहीं होता है। उन्होंने कहा कि पार्टी जो निर्णय लेगी वो उसके साथ रहेंगे अगर क्षेत्र के लोग चाहते हैं कि उन्हें लोकसभा का चुनाव लड़ना है और पार्टी भी निर्णय लेती है तो वे जिम्मेदारियों से पीछे नहीं हटेंगे।

live