अपराध के खबरें

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व योजना: गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ्य जांच के साथ कोविड टीकाकरण

- कोरोना काल में गर्भवती महिलाएं रखें अपना विशेष ध्यान 
-  संस्थागत प्रसव के बाद जननी योजना का मिलता है लाभ
- प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व योजना के तहत गर्भवती महिलाओं की होती है जांच

प्रिंस कुमार 


मोतिहारी,  13 सितम्बर। जिले के विभिन्न प्रखंडों में  सोमवार को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व योजना के तहत गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ्य जांच के साथ कोविड जाँच व टीकाकरण किया गया  है। सिविल सर्जन डॉ अंजनी कुमार ने बताया कि कोरोना काल में गर्भवती महिलाओं को कोरोना के टीकाकरण से सुरक्षा प्रदान होगी। इसमें किसी प्रकार का कोई खतरा नहीं है। अफवाहों पर ध्यान नहीं दें। टीकाकरण कराकर खुद के साथ परिवार समाज को भी कोरोना से बचाएं। साफ- सफाई के साथ अपनी सेहत का पूरा ख्याल स्वयं रखना है। टीकाकरण के बाद भी कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना है। साथ ही दोनो डोज़ अवश्य ही लें। तभी कोरोना से सुरक्षित रहेंगे। गर्भवती महिलाओं को संतुलित आहार का भी उपयोग करना चाहिए। ताकि गर्भवती व गर्भस्थ शिशु पर कोई आंच न आए। इसके लिए समय-समय पर आशा कार्यकर्ता के माध्यम से स्वास्थ्य केंद्र पर बुलाकर उनका स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जा रहा है। 
पकड़ीदयाल प्रखण्ड के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ राजीव कुमार ने बताया कि प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान का अनुमंडल अस्पताल पकड़ीदयाल में आयोजन किया गया । जिसमें दोपहर 3 बजे तक लगभग 72 गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ्य जाँच की गयी थी। इस दौरान गर्भावस्था के दौरान होने वाले खतरे की लक्षणों  की पहचान के बारे में गर्भवती महिलाओं को जागरूक किया गया है । साथ ही कई महिलाओं का कोविड टीकाकरण भी किया गया। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि कोविड टीकाकरण द्वारा महिलाएँ कोरोना जैसी महामारी से बच सकती हैं। साथ ही अपने शिशु की भी रक्षा कर सकती हैं। कोरोना टीकाकरण के बारे में किसी भी प्रकार के अफवाहों से बचना चाहिए, इससे स्वास्थ्य पर कोई खतरा नहीं है। हमारे सहयोगी स्वास्थ्य कर्मियों की टीम द्वारा सभी गर्भवती महिलाओं को जाँच के दौरान उनका वजन,बीपी, एचआईवी, ब्लड शुगर, एफएचएस, व अन्य शारिरिक जाँच की  गयी ।
संतुलित आहार लेना है आवश्यक:
डॉ रीता चौधरी ने बताया गर्भवती महिलाओं को हमेशा शारीरिक व मानसिक विकास के लिए फल,हरे सब्जियों, सलाद, व दूध , दूध से बने सामग्रियों का सेवन जरूरी है। साथ ही किसी भी तरह के तनाव से बचने की सलाह भी महिलाओं को दी । 
आयरन कैल्सियम का उचित मात्रा में सेवन जरूरी:
जाँच के बाद डॉ रीता चौधरी ने बताया कि  सभी गर्भवती महिलाओं को आयरन एवं कैल्सियम  की गोली का उचित मात्रा में सेवन करना जरूरी है। तभी गर्भावस्था के दौरान महिलाओं व उनके गर्भ में पल रहे बच्चे का उचित शारिरिक व मानसिक विकास होता है। 

परिवार नियोजन के तरीकों से महिलाओं को अवगत कराया:
डॉ रीता चौधरी ने बताया कि वर्तमान समय मे जनसंख्या पर रोक लगाने के लिए व अनचाहे गर्भ ठहरने से रोक के लिए , साथ ही साथ बच्चा पैदा करने के साथ ही तुरंत पुनः प्रेग्नेंसी की  समस्याओं से बचाव के लिए गर्भवती, व धात्री महिलाओं को परिवार नियोजन की विभिन्न संसाधनों यथा, कन्डोम, माला डी, अंतरा, कॉपर टी, एवं नसबंदी, जैसे परिवार नियोजन के स्थायी व अ स्थायी साधनों की  जानकारी दी गईं। मौके पर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ राजीव कुमार ,प्रखंड स्वस्थ्य प्रबधक अवनीश कुमार एवम अनिल कुमार मण्डल,प्रखंड प्रबन्धक केयर इंडिया सतीश कुमार सिंह,महिला चिकित्सक डॉ चौधरी सहित कई महिलाएं उपस्थित थीं।

गर्भवती महिलाएं ऐसे रखें ख्याल 
•संतुलित आहार लें। 
•डाइट में विटामिन शामिल करें।
•तेल, घी मसालेदार खाने से परहेज़ करें ।
•बुखार होने पर घबराएं नहीं
•इम्युनिटी का विशेष खास ख्याल
•कोरोना के लक्षण है तो तुरन्त डाक्टर से संपर्क करें ।
•पैरासिटामोल, विटामिन सी, फोलिक एसिड, जिंक और बी कांप्लेक्स दवा जरूर रखें ।
•हर दिन हल्का व्यायाम जरूर करें
•तनाव न लें।

live