न्याधीश शनि वक्री से मार्गी दिशा की ओर, क्या हो सकता है राशियों पर प्रभाव - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

न्याधीश शनि वक्री से मार्गी दिशा की ओर, क्या हो सकता है राशियों पर प्रभाव

Share This
पंकज झा शास्त्री 

 बता दें कि शनि 11 मई 2020 को वर्की हुए थे।142दिन बाद शनि वक्री से मार्गी दिशा में होंगे। शनि का मार्गी होना एक बड़ी घटना है। शनि के मार्गी होने से मिथुन, कन्या, कर्क, धनु और वृश्चिक राशि वालों का फायदा होने की संभावना अधिक है। शनि ढ़ाई साल में एक राशि से दूसरी राशि में जाते हैं। इससे शनि की साढ़े साती और ढ़ैया शुरू होती है। ज्योतिषशास्त्र में व्रकी का अर्थ उल्टा और मार्गी का अर्थ सीधी चाल चलना। वक्री अवस्था में ज्यादतर ग्रह नकारात्मक प्रभाव डालते हैं जबकि मार्गी होने पर जातकों के जीवन पर इसका प्रभाव सकारात्मक रूप से पड़ता है।शनि के वक्री होने से जहां ढ़ैय्या और साढ़ेसाती जिन लोगों पर थी, उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ा था, अब शनि इन लोगों को राहत देगा। मेष राशि वालों को राहत मिलेगी। इस राशि पर अष्टम की ढैय्या थी, जो अब समाप्त होगी। मिथुन राशि वालों को पारिवारिक समस्याओं में उलझना पड़ सकता है। धनु राशि वालों पर शनि की साढ़े साती का प्रभाव अभी देखने को मिलेगा। इस साल के अंत तक ये प्रभाव भी कम हो जाएगा। मकर और कुंभ वालों पर भी शनि की साढ़े साती शुरू होगी। कुंडली देखकर ही व्यक्तिगत तौर पर जातक के बारे में शनि के अशुभ और शुभ प्रभाव के बारे में बताया जा सकता है। 
लेकिन 29 सितंबर 2020 के बाद मकर राशि में रहते हुए सीधी चाल यानी मार्गी होकर भ्रमण करेंगे। शनि की साढ़ेसाती धनु, मकर और कुंभ राशि पर है। शनि की साढ़ेसाती तीन चरणों में होती है। पहला, दूसरा और तीसरा। धनु राशि पर शनि की साढ़ेसाती का अंतिम चरण है, मकर राशि पर दूसरा चरण और कुंभ राशि पर पहला चरण चल रहा है। शनि की साढ़ेसाती चलने पर कई तरह की परेशानियां आने लगती है। समय पर काम पूरा नहीं होता है। बीमारियां घेरे रहती हैं और आर्थिक संकट बना रहता है।
ज्योतिष गणना में शनि की ढैय्या को अशुभ माना जाता है। मौजूदा समय में मिथुन और तुला राशि पर शनि की ढैय्या चल रही है। जन्म राशि से चौथे और आठवें स्थान पर गोचर करते हुए शनि की ढैया रहती है, जो ढ़ाई वर्ष तक चलती है यह भी जातक के लिए अति कष्टकारी रहती है।

 मेष राशि 
शनि का मकर राशि में मार्गी होना आपके भाग्य में बढ़ोतरी करेंगे। क्योंकि शनि का आपकी राशि में भाग्य के स्थान में वक्री से मार्गी हो रहे हैं।

वृष राशि
सुखद और शुभफल देने वाली यात्राओं में वृद्धि होगी। आपकी राशि के लिए शनि का मार्गी होना आपके के लिए धन वृद्धि में सहायक होगा।

मिथुन राशि
शनि का मार्गी होना आपके लिए बाधाएं दूर करने वाला और कार्यो में सफलता दिलाने वाला होगा।

कर्क राशि
शनि का मार्गी होना आपके लिए सेहत के मामले में चली आ रही परेशानियों से निजात दिलाएगा।

 सिंह राशि 
सिंह राशि के जातकों के लिए पांचवे भाव में शनि का मार्गी होना वैवाहिक और रोमांटिक जीवन में रिश्तों की सकारात्मक प्रभाव छोड़ने वाला रहेगा। इसके अलावा धन लाभ के नए अवसर बनेंगे।

कन्या राशि 
कन्या राशि में शनि का मार्गी सुख के भाव में हो रहा है ऐसे में आपके जीवन में सुख-सुविधाओं में अच्छे संकेत हैं। वहीं जो जातक नौकरी या बिजनेस में सलग्न हैं उनके लिए विशेष अवसर उनका इंतजार कर रहे हैं।

तुला राशि 
आपको शनि कठिन परिश्रम करवाने के बाद ही उचित फल प्रदान करेंगे। भाग्य का भरपूर सहयोग मिलने के संकेत हैं।

वृश्चिक राशि 
तरक्की और धन लाभ के नए रास्ते मिल सकते हैं। ऐश्वर्य और सुख-सुविधाओं में वृद्धि होगी।

 धनु राशि
शनि के धनु राशि में मार्गी होने से आपको लाभ मिल सकता है। मार्गी शनि शुभ फल देते हैं। ऐसे में आपको सभी तरह के सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेगा। मार्गी शनि आपके लिए उन्नति का योग बना रहे हैं।

मकर राशि
मकर राशि शनि की राशि है। यह आपकी 12वें स्थान से वक्री से मार्गी हो रहे हैं। आपके लिए अच्छा संकेत है। भविष्य में धन लाभ, मान सम्मान और किस्मत का साथ मिलने के अच्छे संकेत हैं।

कुंभ राशि
मकर राशि के अलावा कुंभ को शनि का स्वामित्व मिला हुआ है। नौकरीपेशा जातकों के लिए शनि का मार्गी होना उनके के लिए लाभकारी रहेगा। अब से पुराने अटके हुए काम पूरे होंगे। धन लाभ मिलने की पूरी संभावना है।

मीन राशि
मीन राशि के जातकों के लिए शनि का मार्गी होना मिलाजुला परिणाम लाने वाला रहेगा।
🌹🙏🏽🌹
पंकज झा शास्त्री
9576281913

live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages