दरभंगिया लस्सी का जवाब नहीं, दरभंगा में हम लस्सी यहीं पिते हैं - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

दरभंगिया लस्सी का जवाब नहीं, दरभंगा में हम लस्सी यहीं पिते हैं

Share This
रोहित कुमार सोनू

मिथिला हिन्दी न्यूज :- दरभंगा के दरभंगिया लस्सी का जवाब नहीं, हेडिंग देखकर अजिब लगा होगा हम लस्सी यहीं पिते हैं चौंकिए मत ये दुकान का नाम है जो लस्सी का दुकान हैं और सबसे फैमस है बिहार और 
दरभंगा  और विशेषकर मिथिलांचल के लोग खान पान ( Mithila Food ) में प्रयोगधर्मिता के कायल रहे हैं। यहां पर कई व्यंजनों ( Mithila Food ) का प्रचलन हुआ है। चाहे वह मीठा हो या नमकीन।  ताजगी का एहसास करवाने वाली लस्सी के बारे में आपको बता रहे हैं। आम तौर पर लोग यह मानते हैं कि पंजाब की लस्सी ( Punjabi Lassi ) ही अच्छी होती है, लेकिन दरभंगिया लस्सी ( darbhangiya Lassi ) भी लज्जत में कुछ कम नहीं है। दरभंगा शहर के टावर की लस्सी हर जगह मशहूर है। यहां लस्सी का कारोबार कर रहे अपने पीढ़ी के लक्की  कुमार ने बताया कि सन 1962 से अनूठी लस्सी बनाने का कारोबार शुरू किया। यह लस्सी ( Lassi ) काफी लोकप्रिय हुई।

69 साल पुरानी है दुकान
टावर  चौक पर   'हम लस्सी यहीं पिते हैं ' के नाम से एक दुकान है। 69 साल पुरानी इस दुकान में देश के साथ ही विभिन्न क्षेत्रों में भी अपनी गहरी पहचान बना चुका है। मिथिलांचल में आने वाले लोग इसका स्वाद जरूर चखते हैं। इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि  यहां आने से पहले दुकान के मालिक सुभाष राम से फोन के जरिए संपर्क कर लेते हैं, ताकि उनके लिए लस्सी के गिलास की कमी न हो।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages