तीरथ सिंह रावत चुने गए नए मुख्यमंत्री, शाम चार बजे राजभवन में लेंगे जानें उत्तराखंड के राजनीतिक घटनाक्रम - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

तीरथ सिंह रावत चुने गए नए मुख्यमंत्री, शाम चार बजे राजभवन में लेंगे जानें उत्तराखंड के राजनीतिक घटनाक्रम

Share This
रोहित कुमार सोनू 

मिथिला हिन्दी न्यूज :-उत्तराखंड के नए सीएम तीरथ सिंह रावत होंगे. विधानमंडल दल की बैठक में उनके नाम पर मुहर लगी है. पौणी लोकसभा सीट से लोकसभा सांसद हैं तीरथ सिंह रावत  आज शाम 4 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. तीरथ रावत के नाम पर मुहर लगते ही केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल ने बुके देकर उनका स्वागत किया. संघ की पहली पसंद थे. गुटबाज़ी से हमेशा दूर रहे. पूर्व मुख्यमंत्री और मौजूदा कैबिनेट मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के सबसे करीबी हैं.
उत्तराखंड में भाजपा नेतृत्व बदलने जा रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस्तीफा दे दिया है। आज उनकी जगह मुख्यमंत्री बनने की संभावना है। हालांकि, रावत को अचानक हटाए जाने के बारे में कोई आधिकारिक कारण नहीं बताया गया है। लेकिन सूत्रों का कहना है कि उसके प्रति असंतोष की भावना प्रबल थी।

सूत्रों के अनुसार, त्रिवेंद्र रावत को मुख्यमंत्री पद से हटाने के पीछे मुख्य कारण पार्टी विधायकों और नेताओं के एक वर्ग में नाराजगी है। दरअसल पार्टी में पैदा हुई नाराजगी के पीछे कई कारण बताए जाते हैं। रावत को भाजपा के शीर्ष नेतृत्व सहित कई वरिष्ठ नेताओं के समर्थन के बावजूद अपनी सीट छोड़नी पड़ी।

एक रिपोर्ट में पार्टी सूत्रों का हवाला देते हुए कहा गया है कि यह रावत के खिलाफ नाराजगी से बाहर था कि सीएम दावेदार बन गए। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार, शीर्ष नेतृत्व भी विकास कार्यों की धीमी गति से परेशान था। इसके अलावा पार्टी में गुटबाजी भी पैदा हुई। इसी समय, प्रशासन स्तर पर ढिलाई की नीति ने स्थिति को बढ़ा दिया। त्रिवेंद्र सिंह रावत की छवि कई चीजों के कारण क्षतिग्रस्त हुई।

रिपोर्ट के अनुसार, राजनीतिक विश्लेषण का मानना ​​है कि उत्तराखंड में भाजपा की स्थिति कई अन्य राज्यों के लिए भी एक कॉल है। विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि केंद्रीय नेतृत्व मुख्यमंत्री पद के लिए चुने गए कई नेताओं पर भी दबाव बना सकता है। राज्य भाजपा इकाई ऐसे नेताओं के खिलाफ विद्रोह कर सकती है।त्रिवेंद्र सिंह रावत के कई फैसलों को लेकर पार्टी के भीतर काफी नाराजगी थी। लेकिन एक फैसले ने सबसे ज्यादा विवाद पैदा किया। निर्णय था चारधाम देवस्थानम प्रबंधन विधेयक। भाजपा नेताओं के अलावा, बिल को लेकर RSS और VHP में नाराजगी थी। सभी का मानना ​​था कि राज्य सरकार को मंदिरों को नियंत्रित करने से बचना चाहिए। जबकि त्रिवेंद्र सिंह का मानना ​​था कि सरकारी नियंत्रण से मंदिरों का बेहतर प्रबंधन किया जा सकता है।उत्तराखंड में तीसरा आयोग गठित करने का भी निर्णय लिया गया। उत्तराखंड में पारंपरिक रूप से दो आयुक्त हैं, कुमाऊं और गढ़वाल। रावत सरकार ने एक तीसरे आयुक्त को गैर-सैन्य बनाने का भी फैसला किया। इसे लेकर पिछले दो आयुक्तों के लोगों में गुस्सा था। इस फैसले को लेकर शीर्ष नेतृत्व में भी नाराजगी थी।यह भी कहा जा रहा है कि रावत का भाजपा में एक भी दोस्त नहीं है। पार्टी के दिग्गज नेताओं में रावत का समर्थन करने वाले बहुत कम हैं। माना जाता है कि रावत, जो महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के करीबी नेताओं में से एक हैं, माना जाता है कि उन्होंने "दुश्मनी" की कीमत चुकाई है।

live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages