अपराध के खबरें

जिलाधिकारी पहुँची किसानों के खेत और स्वयं हँसुआ से फसल काटकर फसल कटनी प्रयोग का किया शुरुआत

सीतामढी संपादक
सीतामढ़ी (बिहार)जिला पदाधिकारी अभिलाषा कुमारी शर्मा द्वारा डुमरा प्रखंड के भूप भैरो पंचायत के भूप भैरो ग्राम में किसान भोला सिंह के खेत पहुँची। उन्होंने किसानों से मिलकर किसानी का लिया जायजा एवम फसल कटनी प्रयोग का किया निरीक्षण। उन्होंने किसान भोला सिंह के खेत खेसरा क्रमांक 156 में रब्बी गेहूं फसल कटनी प्रयोग का निरीक्षण किया। जिला सांख्यिकी पदाधिकारी शशिकांत प्रकाश एवम जिला कृषि पदाधिकारी  अनिल कुमार यादव की उपस्थिति में मोबाइल एप्प के माध्यम से  फसल कटनी प्रयोग सम्पादित किया गया। गौरतलब हो कि बिहार राज्य फसल सहायता योजना अंतर्गत रब्बी गेहूं एक अधिसूचित फसल हैं। इस योजना अंतर्गत जिला के सभी प्रखंड के प्रत्येक पंचायत में पाँच पाँच प्रयोग सम्पादित किया जाता हैं।सीतामढ़ी जिलांतर्गत सभी 17 प्रखंड के 250 पंचायत में कुल 1250 पंचायत स्तरीय गेहूं का फसल कटनी प्रयोग आयोजित है।फसल कटनी प्रयोग 10×5 मीटर भूखण्ड में किया जाता है।खेसरा एवम भूखंड का निर्धारण वैज्ञानिक पद्धति के आधार पर यादृच्छिक प्रणाली द्वारा की जाती है। जिला पदाधिकारी द्वारा आयोजन सूची,खेसरा निर्धारण हेतु तैयार प्रपत्र क़ एवम प्लाट चयन के प्रत्येक बिंदुओं की भी जानकारी प्राप्त  की गयी। उन्होंने फसल कटनी प्रयोग का शुभारंभ  अपने हाथों से गेहूं काटकर  किया।कटनी के दौरान उन्होंने किसान भोला सिंह से  बीज,सिंचाई,बुआई,खाद एवम फसल उपज से संबंधित विभिन्न बिंदुओं पर जानकारी प्राप्त किया।उन्होंने किसान भोला सिंह सहित उपस्थित किसानों से सरकार की चल रही कृषि योजनाओ का भी लिया फीड बैक। निरीक्षण के क्रम में भूप भैरो ग्राम के अन्य नागरिक एवम किसान उपस्थित थे,जिनसे जिला पदाधिकारी ने रबी मौसम में फसल उत्पादकता संबंधित जानकारी प्राप्त की गयी।किसानों द्वारा रब्बी गेहूं के सामान्य उपज की बात कही गयी।फसल कटनी प्रयोग की उपयोगिता फसल उत्पादकता ज्ञात करने के साथ ही किसान की क्षतिपूर्ति का संधारण करना भी हैं। जिलाधिकारी ने बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर ग्राम वासियों से  पूरी सतर्कता बरतने की अपील किया। उन्होंने कहा कि हमेशा मास्क का उपयोग करे,समय-समय पर हाथों को धोते रहे,सामाजिक दूरी का पालन करे।  
*फसल कटनी प्रयोग की तथा उसकी उपयोगिता:-
अर्थ एवम सांख्यिकी निदेशालय बिहार द्वारा फसल कटनी प्रयोग के माध्यम से पंचायत स्तर,राज्य स्तर से सम्पूर्ण देश में उक्त फसल का उत्पादकता ज्ञात करना है।साथ ही फसल कटनी प्रयोग से प्राप्त उत्पादकता आंकड़ा के आधार पर सहकारिता विभाग द्वारा किसानों को क्षति पूर्ति देय होता है।फसल कटनी प्रयोग से प्राप्त आंकड़ा सरकार की अन्य योजनाओं के क्रियान्वयन में सहायक होता है।फलतः फसल कटनी प्रयोग के सफल संपादन एवम उत्पादकता आंकड़ों की विश्वसनीयता,शुद्धता एवम गुणवत्ता के लिए राज्य स्तर,जिला स्तर एवम प्रखंड स्तर के विभिन्न पदाधिकारी/निरीक्षकों द्वारा फसल कटनी प्रयोग का निरीक्षण किया जाता है। भूप भैरो में जिलाधिकारी द्वारा निरीक्षण किये गए किसान भोला सिंह के प्लाट में गेहूं की 15.400 किलोग्राम उपज प्राप्त हुई,जिससे 31 क्विंटल प्रत्ति हेक्टेयर उपज प्राप्त होने का अनुमान लगाया गया।किसान भोला सिंह द्वारा भी कटनी से पूर्व प्रत्ति हेक्टेयर 30 क्विंटल उपज होने का प्राथमिक अनुमान बताया गया था,अतः प्रयोग कटनी से प्राप्त उपज दर सामान्य उपज दर को दर्शाता है।फसल कटनी निरीक्षण के दौरान स्थल पर अवर सांख्यिकी पदाधिकारी श्री हेमंत कुमार चौबे,प्रखंड सांख्यिकी पदाधिकारी सुनील कुमार,अंचल निरीक्षक सदर,किशन सलाहकार कुमार गौरव,कृषि समन्वयक,अन्य कर्मी ,जन प्रतिनिधि एवम कुछ ग्रामवासी उपस्थित थे। यह सम्पूर्ण जानकारी जिला जनसम्पर्क कार्यालय ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से जारी किया है 
Tags

live