अपराध के खबरें

मधुबनी नरसंहार मामले की हो सीबीआई जांच कहा बेनीपट्टी की पूर्व कांग्रेस विधायक भावना झा ने

अनूप नारायण सिंह 

मिथिला हिन्दी न्यूज पटना।मधुबनी नरसंहार मामले में सबसे प्रखर आवाज उठाने वाली कांग्रेस की पूर्व विधायक रही भावना झा ने इस पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग कर दी है पत्रकारों से बातचीत के क्रम में उन्होंने कहा कि मौजूदा स्थिति में न्याय मिलने की आस नहीं के बराबर है ऐसे में जरूरी हो तो इस मामले की सीबीआई जांच हो उन्होंने कहा कि कुछ लोग जानबूझकर इसे जातीयता का रंग देना चाहते हैं जो पूरी तरह से गलत है उन्होंने कहा कि अपराधियों की कोई जात नहीं होती जो लोग अपराधियों को संरक्षण देते हैं वह भी समाज के दुश्मन है उन्होंने कहा कि कौन गलत है कौन सही है यह तो जांच का विषय है पर जो कुछ हुआ है यह जघन्य अपराध है इसे माफ नहीं किया जा सकता उन्होंने राज्य सरकार से मांग की कि पीड़ित परिवार को अभिलंब आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाए मृतकों के परिजनों को सरकारी नौकरी दी जाए सुरक्षा दी जाए। उन्होंने बताया कि इस तरह की घटनाएं एकाएक नहीं हो सकती इसकी पृष्ठभूमि पहले से तैयार की गई थी अमन चैन को समाप्त करने की बहुत बड़ी साजिश है भविष्य में इस तरह की जघन्य घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो इसके लिए सभी लोगों को मिलजुलकर पहल करनी चाहिए उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी घटना हो गई और बिहार के मुख्यमंत्री ने वहां जाना तक उचित ना समझाना ही सरकार के तरफ से कोई वरिष्ठ मंत्री या पदाधिकारी ही पीड़ितों के आंसू पोछने पहुंचा उन्होंने बताया कि जैसे ही घटना की जानकारी मिली थी वह सबसे पहले वहां पहुंची थी उन्होंने पीड़ितों को जो कुछ सहयोग हो सकता था तत्काल उपलब्ध कराया था उसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शकील अहमद साहब भी पहुंचे कांग्रेस के कई वरीय नेता पहुंचे सब ने अपने स्तर से जो कुछ सहयोग हो सकता था पीड़ित परिवार को उपलब्ध कराया ढ़िढ़ोरा पीटने में वे विश्वास नहीं रखती हैं जिन लोगों का नाम इस पूरे घटनाक्रम में आ रहा है उनकी भी अपराधियों से सांठ गांठ की जांच होनी चाहिए सत्ता संरक्षित अपराधियों ने पूरे बिहार में माहौल को खराब कर रखा है प्रशासनिक स्तर पर भी न्याय की उम्मीद ना के बराबर है। बातचीत के क्रम में उन्होंने कहा कि जो पीड़ित परिवार हैं उनमें महंत जी जिनकी हत्या हुई है उनकी आर्थिक स्थिति सबसे खराब है साथ ही साथ जो लोग मारे गए हैं उनके छोटे-छोटे बच्चे जवान बेटियों और विधवाओं की चिंता किसी को नहीं है उन्होंने राज्य सरकार से मांग की है कि अविलंब उचित मुआवजा भी पीड़ित परिवारों को दिया जाए। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि ब्राह्मण और राजपूत में काफी मधुर संबंध अनादि काल से ही रहे हैं ब्राह्मण गुरु की भूमिका में रहा है जबकि राजपूत यजमान की भूमिका में हमारे इस मधुर संबंध को राजनीतिज्ञ तोड़ना चाहते हैं जो किसी भी कीमत पर संभव नहीं है हर दुख दर्द में हम पीड़ितों के साथ खड़े हैं जाति बीच में नहीं आनी चाहिए।
Tags

live