अपराध के खबरें

दर्दनाक : कोई तो बचा लो मेरी बेटी को सर लीची का बीज फंसा है कोरोना के कारण नहीं देख रहा कोई , पिता की गोद में बच्ची ने तोड़ा दम

संवाद 

बच्ची के गले में फंसा लीची का बीज, कोरोना रिपोर्ट के इंताजार में पिता की गोद में मौत

मिथिला हिन्दी न्यूज :-  कोरोना वायरस से ज्यादा लापरवाही ने मौत के तांडव बढ़ाया हैं। सरकारी सिस्टम क्या है उसका एक झलक आपको मुजफ्फरपुर में देखने को मिलेगा 8 साल की बेटी को गोद में लेकर पिता ने सदर अस्पताल में बहुत देर तक भटकता रहा लेकिन उस बच्ची का गुनाह सिर्फ इतना था कोरोना जांच रिपोर्ट नही होने पर किसी डॉक्टर या नर्स ने हाथ तक नही लगाया। हाय रे मानवता दर्द होता है ऐसे खबर को लिखने पर क्या कहें सिस्टम ने इस तरह का न्यूज बनाने पर मजबूर कर दिया है। जनकारी के मुताबिक पिता के गोद में ही बेहोश हो गई पिता भटकते रहे अंत में जाकर तोड़ दिया फिर भी इस निकम्मा सिस्टम की नींद नही टूटी. जब सदर अस्पताल से मृत बच्ची का शव ले जाने के लिए जब शव वाहन भी नही मिला तो पिता बच्ची को गोदी लेकर हीं लौट गया. कांधे पर बच्ची का शव लिए रोते बिलखते पिता का वीडियो वायरल होने पर सिविल सर्जन कहते हैं कि जांच कमेटी बना दी गई है। मुजफ्फरपुर कुढ़नी प्रखंड के रघुनाथपुर मधुबन गांव निवासी बच्ची के पिता संजय राम हैं। 
Tags

live