नीतीश कुमार के करीबी पूर्व विधायक मनजीत सिंह छोड़ सकते हैं जदयू, मानमनवोल का दौर जारी - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

नीतीश कुमार के करीबी पूर्व विधायक मनजीत सिंह छोड़ सकते हैं जदयू, मानमनवोल का दौर जारी

Share This
अनूप नारायण सिंह 

मिथिला हिन्दी न्यूज :- बिहार में अभी ना विधानसभा का चुनाव है ना लोकसभा का चुनाव पर सियासी सरगर्मी बैकुंठपुर के पूर्व विधायक मनजीत सिंह को लेकर काफी तेज हो चुकी है यह वही मनजीत सिंह है जो जदयू के पूर्व विधायक हुआ करते थे पिछले विधानसभा चुनाव में इन्हें मिथिलेश तिवारी जो भाजपा के उम्मीदवार थे ने मात दी थी और इस बार यह सीट भाजपा कोटे में चले जाने के बाद मनजीत सिंह ने निर्दलीय ताल ठोक कर मिथिलेश तिवारी के विजय रथ को रोक दिया बैकुंठपुर मनजीत सिंह के परिवार की परंपरागत सीट रही है उनके पिता बाबू ब्रजकिशोर सिंह पहले यहां से विधायक हुआ करते थे सरकार में मंत्री भी रहे खुद मनजीत सिंह बैकुंठपुर के विधायक रहे लेकिन वर्ष 2015 और 2020 के विधानसभा चुनाव में बतौर जदयू और निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर इन्हें हार का सामना करना पड़ा अब मूल कहानी पर आते हैं मनजीत सिंह को लेकर बुधवार को खबर आएगी वह राजद में शामिल होंगे और इस बाबत खुद उन्होंने अपने सोशल मीडिया पर पोस्ट डाला। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के साथ मुस्कुराते हुए एक तस्वीर भी सोशल मीडिया पर कल ट्रेंड कर रही थी जिसमें तेजस्वी यादव मनजीत सिंह बिस्कोमान के चेयरमैन व राजद विधान पार्षद सुनील कुमार सिंह पूर्व विधायक महेश्वर सिंह परसा से राजद विधायक छोटेलाल राय और बैकुंठपुर से राजद विधायक प्रेम शंकर यादव एक साथ नजर आ रहे थे मनजीत सिंह अपने लिए नई राजनीतिक जमीन तलाशने में लगे हुए थे जिसका ठिकाना हाल ही में एक शादी समारोह में पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह के साथ मशरख में हुई उनकी मुलाकात के बाद सामने आ गई थी। उसी समय से यह कयास लगाया जा रहा था कि यह राजद में जाएंगे बिस्कोमान चेयरमैन सुनील कुमार सिंह से इनके व्यक्तिगत रिश्ते रहे हैं इस कारण से राजद में एंट्री में कोई दिक्कत नहीं थी और जिसकी कल घोषणा भी हो गई थी लेकिन इसके बाद कहानी में ट्विस्ट आ गया कल देर रात से ही खबर आने लगी कि मनजीत सिंह को जदयू किसी कीमत पर खोना नहीं चाहती है हालांकि निर्दलीय ताल ठोकने के कारण पार्टी ने 6 वर्षों के लिए उन्हें प्राथमिक सदस्यता तक से निलंबित कर रखा है पर मनजीत सिंह के राजद में जाने की खबर के बाद आज मंत्री लेसी सिंह पूर्व मंत्री जय कुमार सिंह और वरीय जदयू नेता राणा रणधीर सिंह को गोपालगंज अवस्थित मनजीत सिंह के गांव देवापुर भेजा गया जहां घंटो हाई वोल्टेज ड्रामा चलता रहा मनजीत सिंह के समर्थक किसी भी कीमत पर मनजीत सिंह को जदयू नेताओं के साथ पटना जाने देने को राजी नहीं थे जदयू नेता लोगों का मनावन करते रहे और अंततः मंत्री लेसी सिंह की गाड़ी में सवार होकर मुख्यमंत्री से मिलने मनजीत सिंह पटना रवाना हो गए।इस पूरे घटनाक्रम के बाद मनजीत सिंह जदयू में जाएंगे या राजद में इस पर संशय बना हुआ है पर सूत्र बताते हैं कि मुख्यमंत्री से मिलन के बाद मनजीत सिंह की जदयू में ही वापसी होगी पर क्या राजद में उनके लिए सेफ जोन तलाश रहे लोग मनजीत सिंह को माफ कर पाएंगे और खासकर वह जिनके सहारे वह राजद में धूम धमाके के साथ इंट्री करने वाले थे राजनीति में कब क्या होगा किसी को नहीं पता है फिलहाल मनजीत सिंह अपने भाग्य भविष्य को लेकर खुद चौराहे पर है। बैकुंठपुर में उनके लिए सबसे बड़ा रोड़ा 2015 के चुनाव में भाजपा के टिकट पर जीते भाजपा के संप्रति प्रदेश उपाध्यक्ष मिथिलेश तिवारी है जिन्होंने बैकुंठपुर से मनजीत सिंह के तिलिस्म को तोड़ा था लेकिन इस बार के विधानसभा चुनाव में मंजीत सिंह ने निर्दलीय ताल ठोक कर भाजपा उम्मीदवार के विजय रथ को रोक दिया और यहां से राजद के प्रेम शंकर यादव चुनाव जीत गए जो पूर्व विधायक देवदत्त प्रसाद के पुत्र हैं। सारण प्रमंडल में बाढ़ की एंट्री गोपालगंज के देवापुर के बांध के टूटने के कारण ही होती है बैकुंठपुर बाढ़ से तबाह होने वाला क्षेत्र है यहां की राजनीति भी बाढ़ में फंसी रहती है अगर मनजीत सिंह राजद में चले जाते हो तो फिर पलड़ा यहां भाजपा के मिथिलेश तिवारी का ही भारी था लेकिन फिर उनके जदयू में आने के बाद मनजीत सिंह के लिए कहां से सीट तलाशी जाएगी यह भी बड़ी समस्या है से चर्चा है कि अगर राजद में जाते तो इन्हें विधान परिषद का चुनाव लड़वाया जाता और बरौली में इनको पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर प्रस्तुत किया जाता है जदयू मनजीत सिंह को किन उपहारो से नवाजती है यह तो आने वाला समय ही बताएगा। 

live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages