अपराध के खबरें

बिहार के इस जगह पर सांपों का मेला लगता है

संवाद 
मिथिला हिन्दी न्यूज :- परंपरा के नाम पर कई जगहों पर ऐसी चीजें की जाती हैं जिस पर यकीन करना मुश्किल होता है। जिस जगह की बात हम कर रहे हैं यहां के लोगों को सांप से दर नहीं लगता बल्कि वोआप डरते होंगे इनसे, पर बिहार में यहां लगता है सांपों का अनोखा मेला! बिहार के समस्तीपुर में नाग पंचमी के दिन इनकी पूजा की अनोखी प्रथा है। इस दिन नाग के भगत (पुजारी, भक्त) गंडक नदी या पोखर में डुबकी लगाकर नदी से सांप निकालते हैं और उसकी पूजा करते हैं। या यूं कहिये कि नदी के किनारे सांपों का मेला लगता है। समस्तीपुर के विभूतिपुर प्रखंड के सिंघिया और रोसड़ा गांव में भगत जहां गंडक नदी में डुबकी लगाकर सांप निकालते हैं, वहीं सरायरंजन में एक प्राचीन पोखर से सांप निकालकर उसकी पूजा करते हैं। इस दौरान इस स्थानों पर नाग पंचमी के दिन लोगों का मजमा लगता है। मेला करीब 300 साल से लगता आ रहा है. इस दौरान पहले तो भगवती की आराधना की जाती है और फिर शुरू होता है गंडक नदी से सांपों को निकालने का सिलसिला. लोगों की मान्यता है इस दिन मांगी गई मुराद जरूर पूरी होती है।

live