अपराध के खबरें

मंडल आयोग की सभी अनुशंसाओं को लागू कराने के तीन सूत्री मांगों को लेकर राजद का पैदल मार्च

संवाद 

राष्ट्रीय जनता दल जिला इकाई मधुबनी के द्वारा सामाजिक न्याय सह मंडल दिवस के अवसर पर राजद जिला अध्यक्ष सह लौकहा विधायक भारत भूषण मंडल के नेतृत्व मैं जाति जनगणना कराने, आरक्षण के खाली पदों पर बैकलॉग व्यवस्था लागू कराने और मंडल आयोग की सभी अनुशंसाओं को लागू कराने के तीन सूत्री मांगों को लेकर राज्यव्यापी कार्यक्रम के तहत रेलवे स्टेशन से जिला समाहरणालय तक पैदल मार्च करते हुए विरोध प्रदर्शन करते हुए समाहरणालय पर सभा का आयोजन किया गया
            सभा को संबोधित करते हुए राजद जिलाध्यक्ष सह विधायक भारत भूषण मंडल ने कहा कि इस देश में आदमी, जानवर, पशु, पक्षी सभी की गणना होती है। परंतु पिछड़े वर्ग के लोगों की गणना करने में केंद्र सरकार हिचकिचाती है। जबकि पूर्व में भारतीय जनता पार्टी भी इसकी मांग करते रही है। परंतु आज राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के1 दबाव में अपनी मनुवादिता सोच के कारण गणना करने से हिचकिचा रही है। गणना हो जाने के उपरांत जब केंद्र और राज्य के विभिन्न मानवीय विकास के लिए बजट तय होंगे तो पिछड़ा एवं अति पिछड़ा वर्ग को अपने आबादी के अनुरूप हिस्सेदारी देना होगा। लेकिन देश के आजादी के पूर्व और देश के आजादी के बाद भी अनुसूचित जाति/जनजाति, पिछड़ा, अति पिछड़ा, अल्पसंख्यक वर्ग को आर्थिक न्याय नहीं मिल पाया। इसलिए आज समय की मांग भी है कि जातीय जनगणना आवश्यक है। इससे सभी वर्गों को लाभ होगा। 
                   
                समीर कुमार महासेठ ने कहा देश की 3743 पिछड़ी जातियां है, जो भारत की जनसंख्या की आधी हिस्सा थी। पिछड़े वर्गों के लिए 27% आरक्षण की सिफारिश की गई थी। सिफारिश में जमींदारी प्रथा को खत्म कर भूमि सुधार को लागू करने की भी अनुशंसा की गई थी। क्योकिं अनुसूचित जाति/जनजाति, पिछड़ी जाति के लिए जमीदारी प्रथा बहुत बड़ा दुश्मन था। ओबीसी आबादी वाले क्षेत्रों में पिछड़े वर्ग के छात्र - छात्राओं के लिए आवासीय विद्यालय खोलने एवं छात्रों को रोजगार परक शिक्षा की व्यवस्था की गई थी। 1989 में श्री वी०पी० सिंह जी के नेतृत्व में सरकार बनी। जब उन्होंने 13 अगस्त 1990 को श्री लालू यादव जी एवं श्री शरद यादव जी के प्रयास से मंडल आयोग की अधिसूचना जारी हो गई। तत्पश्चात पुन: भारतीय जनता पार्टी ने इसके विरोध में सरकार से समर्थन वापस ले लिया।
       पूर्व विधायक उमाकांत यादव ने कहा विश्व के लगभग हर लोकतांत्रिक देश में समाज की बराबरी, उन्नति, समृद्धि, विविधता और उसकी वास्तविक सच्चाई जानने के लिए जनगणना होती है। सरकार हर धर्म के आँकड़े जुटाती है इसी प्रकार अगर हर जाति के भी विश्वसनीय आँकड़े जुट जाएँगे तो उसी आधार पर हर वर्ग और जाति के शैक्षणिक आर्थिक उत्थान, कार्य पालिका, विधायिका सहित अन्य क्षेत्रों में समान प्रतिनिधित्व देने वाली न्यायपूर्ण नीतियां बनाई जा सकेंगी। उसी अनुसार बजट का भी आवंटन किया जा सकेगा।
           
सभा को पूर्व विधायक रामावतार पासवान, रामाशीष यादव, राजद के वरिष्ठ नेता राजकुमार यादव, किसान प्रकोष्ट के जिला अध्यक्ष देवनारायण यादव,प्रदीप प्रभाकर,रामकुमार यादव, अरुण कुमार चौधरी,जिला प्रवक्ता इंद्रजीत राय, रामबहादुर यादव,वीरबहादुर राय, प्रदेश उपाध्यक्ष अतिपिछड़ा प्रकोष्ट हरेराम राय, रामप्रवेश प्रसाद, कामेश्वर कामती,मिंटू सहजादा, शोभाकांत राय, अमन कुमार यादव,युवा राजद के प्रधान महासचिव अमरेंद्र चौरसिया,युवा जिला अध्यक्ष इंद्रभूषण यादव,चंद्रशेखर झा सुमन,मधु राय, रमेश कुमार यादव,अमित यादव, संजीव कुमार यादव,युवा अध्यक्ष रहिका,संजय कुमार यादव,रूदल यादव,रामसागर पासवान, देबू साह,जयजय राम यादव,रामानंद बनैता,रामसागर पासवान,मनोज चौधरी,गंगाधर पासवान, देवनारायण यादव युवा अध्यक्ष खुटौना जीवछ यादव,मो.यासिन,मुरारी झा, मो. इलियास, सीताशरण यादव,सचिन चौधरी,शिवजी भारती इत्यादी।

live