अच्छी खबर : अब घर से ट्रेन तक सामान पहुंचाएगी रेलवे, ऐसे मिलेगी यात्र‍ियों को यह सुविधा - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

अच्छी खबर : अब घर से ट्रेन तक सामान पहुंचाएगी रेलवे, ऐसे मिलेगी यात्र‍ियों को यह सुविधा

Share This
 रोहित कुमार सोनू 

मिथिला हिन्दी न्यूज :-लंबी दूरी की ट्रेनें अधिकांश यात्रियों के साथ कम या ज्यादा सामान ले जाती हैं। आम आदमी को सामान के साथ सड़क पर कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। और ज्यादा या ज्यादा सामान होने पर दुख बढ़ जाता है। घर से सामान लेकर स्टेशन पर पहुँचना या स्टेशन पर उतरने के बाद घर वापस आना - दोनों कई मामलों में चिंता का कारण हैं। विशेष रूप से, सबसे अधिक प्रभावित वरिष्ठ नागरिक, बीमार लोग, एकल महिलाएं और विशेष रूप से सक्षम लोग हैं। आधुनिक समय को ध्यान में रखते हुए, भारतीय रेलवे की योजना, कम से कम यात्रियों के सामान के साथ लंबे समय तक इस दुख को सहन नहीं करना पड़ सकता है। बैग्स ऑन व्हील्स नाम की एक विशेष सेवा लॉन्च होने वाली है।
 उत्तर रेलवे के अनुसार, ऐप-आधारित सेवा ट्रेन यात्रियों के सामान को घर से इकट्ठा करेगी और इसे स्टेशन तक पहुंचाएगी। इसी तरह, वे सामान घर तक पहुंचने के लिए स्टेशन तक पहुंचने की जिम्मेदारी भी लेंगे। इसके बदले, यात्री को चार्ज के रूप में कम राशि का भुगतान करना होगा। दूरी, सामान और आकार के आधार पर शुल्क निर्धारित किए जाएंगे। पूरी योजना का प्रारंभिक डिजाइन पहले ही तैयार किया जा चुका है।
 रेल बहुत जल्द BOW ऐप लॉन्च करने जा रही है। यह ऐप एंड्रॉइड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध होगा। रेलवे अधिकारियों के अनुसार, भारतीय रेलवे के इतिहास में यह पहली बार है कि इस तरह की सेवा जल्द ही शुरू होने जा रही है। नई दिल्ली, दिल्ली जंक्शन, हजरत निजामुद्दीन, दिल्ली छावनी, दिल्ली सराय रोहिल्ला, गाजियाबाद और गुरुग्राम स्टेशनों से ट्रेन में चढ़ने वाले यात्रियों को शुरू में यह सेवा मिलेगी। यदि यह लोकप्रिय हो जाता है, तो निकट भविष्य में इसे अन्य स्थानों पर ले जाया जाएगा। देश का सबसे बड़ा सार्वजनिक परिवहन क्षेत्र लंबे समय तक 'वेंटिलेशन' में चला गया है। किसी संगठन का संचालन अनुपात आय और व्यय के बीच के असुरक्षित संबंध के आधार पर निर्धारित किया जाता है। 2016-17 के वित्तीय वर्ष में, रेलवे का परिचालन अनुपात 97.3 प्रतिशत था। दूसरे शब्दों में, 100 रुपये कमाने के लिए रेलवे को 96 रुपये 30 पैसे खर्च करने पड़ते थे। दूसरी ओर, आर्थिक मंदी और कोविद लॉकडाउन के कारण, रेलवे के राजस्व में ठहराव आ गया है। इस स्थिति में, शुरू से ही वैकल्पिक रूप से रेलवे के राजस्व को बढ़ाने पर जोर दिया गया है। कुछ दिनों पहले, ट्रेन के इंजन पर एक विज्ञापन दिखाई दिया। रेलवे अधिकारियों ने कहा कि बैग ऑन व्हील्स सेवा रेलवे के राजस्व को बढ़ाएगी और साथ ही बेहतर यात्री सेवा के लक्ष्य को पूरा करेगी।

No comments:

Post a comment

live

Post Bottom Ad

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages