नर्सिंग ऑफिसर अनुराधा कुमारी कोरोना को मात देकर वापस मरीजों की सेवा में जुट गईं हैं - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

नर्सिंग ऑफिसर अनुराधा कुमारी कोरोना को मात देकर वापस मरीजों की सेवा में जुट गईं हैं

Share This
प्रिंस कुमार 

कोरोना पॉजिटिव हैं तो भी हमेशा पॉजिटिव सोच रखें, क्योंकि पॉजिटिव सोच ही कोरोना संक्रमण से उबरने में मददगार साबित हो सकता है। कोरोना पॉजिटिव मतलब जिदगी खत्म नहीं है। आपके साथियों और परिवार को हौसला भी दवा का काम करता है। इसलिए कोरोना को हराना है तो पॉजिटिव सोच के साथ लड़ना होगा। कोरोना का संक्रमण हौसलों को पस्त नहीं कर सकता। यह कहना है मातृ-शिशु अस्पताल में कार्यरत
नर्सिंग ऑफिसर व लेबर इंचार्ज अनुराधा कुमारी का, जो अपने हौसले के दम पर कोरोना संक्रमण को मात देकर वापस मरीजों की सेवा में जुट गईं हैं। अनुराधा कुमारी एक दिसंबर को जांच में पॉजिटिव पाई गईं और 15 दिसंबर को कोरोना से ठीक होकर अपने फर्ज को निभाने के लिए काम पर लौट आईं हैं। कोरोना से ठीक होने के बाद जब वापस काम पर लौटी तो उनके हौसले को सभी ने सलाम किया।

14 दिन होम क्वारंटीन रहीं
पॉजिटिव होने के बाद वह होम आइसोलेशन में चली गईं। इस दौरान उन्होंने खुद में जोश भरा। मेहनत रंग लाई। और निगेटिविटी के सन्नाटे को अपने जज्बे से भगा दिया। 14 दिन होम क्वारंटीन रहीं, फिर दूसरों की जान बचाने के लिए सेवा में ड्यूटी पर लौट गईं।

पॉजिटिव सोच से ही कोरोना को हराया जा सकता है 
अनुराधा कुमारी ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव हैं तो भी हमेशा पॉजिटिव सोच रखें। क्योंकि पॉजिटिव सोच से ही कोरोना को हराया जा सकता है। कोरोना पॉजिटिव होने का मतलब जिंदगी खत्म नहीं है। आपके साथियों और परिवार को हौसला भी दवा का काम करती है। इसलिए कोरोना को हराना है तो पॉजिटिव सोच के साथ लड़ना होगा। कोरोना का संक्रमण हौसलों को पस्त नहीं कर सकता। 

लोगों की सेवा करना हमारा धर्म
कोरोना संक्रमण की वजह से फैल रही महामारी के खतरे के बीच लोगों की सेवा में अनुराधा कहतीं हैं कि इस मुश्किल वक्त में लोगों की सेवा करना ही तो हमारा धर्म है। वैसे तो आम दिनों में भी हम अपने फर्ज से कभी पीछे नहीं रही। लेकिन इस वैश्विक महामारी कोरोना में महिलाओं की सेवा हमारी पहली प्राथमिकता में से है। 

पूरी एहतियात के साथ कराती हैं प्रसव
अनुराधा कुमारी कहती है कि यहां आने वाली गर्भवती महिलाओं को वैश्विक महामारी कोरोना के संक्रमण से बचाव करते हुए पूरी एहतियात के साथ प्रसव कराया जाता है। ताकि किसी प्रकार की कोई दिक्कत किसी को भी न हो सके। संक्रमण से बचाव को लेकर उन्हें सलाह दिया जाता है तथा शारीरिक दूरी का पालन करते हुए अपने कार्य को फर्ज समझ कर निभा रही हैं।


कोविड 19 के दौर में रखें इसका ख्याल
-दो गज की शारीरिक दूरी बनाए रखें
-साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें
-छींकते और खांसते समय अपनी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढकें 
-घर से निकलते समय मास्क का इस्तेमाल जरूर करें
-आंख, नाक एवं मुंह को छूने से बचें
-कहीं नयी जगह जाने पर किसी चीज को छूने से परहेज करें

live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages