अपराध के खबरें

चिंता ना करें पूरे देश में पेट्रोल-डीजल आधी कीमत होगी सरकार कर रही है विचार पढें पूरी खबर

संवाद 
पेट्रोल-डीजल की कीमतें आसमान छू रही हैं। अगर केंद्र सरकार पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के तहत लाती है तो आम आदमी को राहत मिल सकती है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी इस पर संकेत दिया है। भले ही पेट्रोल-डीजल को जीएसटी की ऊंची कीमतों पर रखा जाए, लेकिन नवीनतम कीमतों को दोगुना किया जा सकता है।वर्तमान में, केंद्र सरकार पेट्रोल और डीजल पर टैक्स और राज्य वैट लगाती है। ये दोनों टैक्स इतने अधिक हैं कि विभिन्न राज्यों में 35 रुपये का पेट्रोल 90 रुपये से 100 रुपये प्रति लीटर हो गया है। 23 फरवरी को दिल्ली में पेट्रोल 90.93 रुपये प्रति लीटर और डीजल 81.32 रुपये प्रति लीटर था। केंद्र सरकार ने क्रमशः 92.98 रुपये प्रति लीटर और 31.83 रुपये प्रति लीटर का उत्पाद शुल्क लगाया है। वह भी तब जब देश में जीएसटी लागू है। 1 जुलाई 2017 को जीएसटी लागू किया गया था। राज्यों की उच्च निर्भरता के कारण पेट्रोल और डीजल को बाहर रखा गया था। अब निर्मला सीतारमण ने केंद्र और राज्य सरकारों के बीच ईंधन के मूल्य में कमी लाने के लिए संयुक्त सहयोग का आह्वान किया है।

अगर पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के तहत शामिल किया जाता है, तो ईंधन की कीमत पूरे देश में समान होगी। यही नहीं, अगर जीएसटी काउंसिल कम स्लैब का विकल्प चुनती है, तो कीमतें तेजी से घटेंगी। भारत में वर्तमान में चार प्राथमिक जीएसटी दर हैं - 5 प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 प्रतिशत और 28 प्रतिशत। वर्तमान में, केंद्र और राज्य सरकारें उत्पाद शुल्क और वैट के नाम पर 100 प्रतिशत से अधिक कर लगाती हैं।पेट्रोलियम उत्पादों पर कर इस सरकार के लिए एक प्रमुख राजस्व स्रोत है। इसलिए, जीएसटी परिषद पेट्रोल और डीजल को बड़े स्लैब में रख सकती है और यहां तक ​​कि उन पर अतिरिक्त कर भी लगा सकती है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष के पहले छह महीनों के दौरान पेट्रोलियम क्षेत्र ने सरकारी खजाने में 2,37,338 करोड़ रुपये का योगदान दिया। इसमें से 1,53,281 करोड़ रुपये केंद्र का हिस्सा था और 84,057 करोड़ रुपये राज्यों का था। वर्ष 2019-20 में पेट्रोलियम क्षेत्र से राज्यों और केंद्र तक कुल योगदान 5,55,370 करोड़ रुपये का था। यह केंद्रीय राजस्व का लगभग 18 प्रतिशत और राज्य के राजस्व का 7 प्रतिशत था। केंद्रीय बजट 2021-22 के अनुसार, केंद्र को इस वित्तीय वर्ष में पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क से अनुमानित 3.46 लाख करोड़ रुपये जुटाने की उम्मीद है।

live