अपराध के खबरें

Akshaya Tritiya 2021: आज है अक्षय तृतीया, जाने क्या करें और क्या न करें

 
मिथिला हिन्दी न्यूज :- इस बार अक्षय तृतीया आज यानी 14 मई 2021 ,शुक्रवार को मनाई जाएगी। हालांकि कोरोना महामारी की अधिकता को देखते हुए सरकार द्धारा कहीं आंशिक तो कहीं पूर्ण लॉक डाउन लगाया गया है जिसके चलते बाजारों में पिछले साल कि भांति इस बार भी असर देखा जा रहा है,कई पर्व त्यौहार पर इसका असर जरूर हुआ है फिर भी श्रद्धालु भक्तों के मन में उत्तसुकता में कोई कमी नहीं देखी जा रही है। अक्षय तृतीया का पर्व लोग बेशक अपने अपने घरों में ही मनाएंगे।
मान्यता है कि भगवान विष्णु के छठे अवतार श्री परशुराम का जन्म भी अक्षय तृतीया को ही हुआ था।
भगवान विष्णु के अवतार नर-नारायण और हयग्रीव का अवतरण भी इसी तिथि में हुआ।
वेद व्यास एवं श्रीगणेश द्वारा महाभारत ग्रन्थ के लेखन का प्रारंभ भी इसी तिथि से हुआ था।
कहा जाता है कि महाभारत के युद्ध का समापन इस दिन ही हुआ।
द्वापर युग का समापन भी अक्षय तृतीया पर हुआ।
अक्षय तृतीया हर साल वैशाख मास के शुक्‍ल पक्ष की तृतीया को मनाई जाती है और इस त्‍योहार को धन वृद्धि और सुख समृद्धि से जोड़कर देखा जाता है। पूरे साल का यह सबसे शुभ मुहूर्त माना जाता है। इस दिन बिना पंचांग देखे या फिर कोई शुभ मुहूर्त निकलवाए बिना कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है। वहीं जब अक्षय तृतीया पर कई शुभ संयोग हों तो इसका महत्‍व और बढ़ जाता है। इस बार भी ऐसा ही कुछ होने जा रहा है। इस बार अक्षय तृतीया बेहद शुभ योग में होने की वजह से अगर इस दिन धन वृद्धि के लिए कुछ उपाय आजमाए जाएं तो अक्षय फल की प्राप्ति होती है। 
ज्‍योतिष के अनुसार इस बार अक्षय तृतीया बेहद शुभ योग में मनाई जाएगी। इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग एवं मानस योग बन रहे हैं। जो कि बेहद शुभ योग माने जाते हैं। इन योग में मां लक्ष्‍मी की पूजा करने या फिर दान पुण्‍य करने से हमें विशेष फल की प्राप्ति होती है। सर्वार्थ सिद्धि योग होने से इस दिन विवाह, गृह प्रवेश, भूमि पूजन और नया व्यापार आरंभ करने के कार्य बिना कोई मुहूर्त निकलवाए संपन्‍न किए जा सकते हैं। इसके अलावा मां लक्ष्‍मी को समर्पित यह त्‍योहार शुक्रवार को मनाया जा रहा है। शुक्रवार का दिन भी मां लक्ष्‍मी की पूजा को समर्पित होता है। इस दिन सच्‍चे मन से मां लक्ष्‍मी का स्‍मरण करने से आपको अक्षय फल की प्राप्ति हो सकती है।
धन प्राप्ति का उपाय करने के लिए अक्षय तृतीया का अवसर बेहद खास माना जाता है।अक्षय तृतीया के दिन 11 कौड़ियां लेकर उसे लाल कपड़े में बांधकर पूजा के स्‍थान में रखें और अगले दिन सुबह स्‍नान करने के बाद पूजा करके ये कौड़ियां अपने धन के स्‍थान में रख लें। ऐसा करने कुछ हद तक आर्थिक सुधार हो सकती है और मां लक्ष्‍मी भी प्रसन्‍न होंगी। इस उपाय को करने से अपने जीवन में यश, कीर्ति और मान-सम्‍मान प्राप्‍त होगा।
मां लक्ष्‍मी को नारियल सबसे प्रिय माना जाता है और अक्षय तृतीया के दिन नार‍ियल का उपाय करने से घर में धन का की संभावना बढ़ सकती है,आपको करना यह है कि अक्षय तृतीया के दिन मां लक्ष्‍मी के समक्ष एकाक्षी नारियल लाकर स्‍थापित कर दें। ऐसा करने से मां लक्ष्‍मी आप से प्रसन्‍न होंगी और आपको मनचाहे परिणाम मिल सकता है।
यदि संतान के विवाह को लेकर परेशान रहते हैं तो इस दिन आपके आस-पास जो विवाह हो रहे हों तो वहां जाकर कन्‍या को दान स्‍वरूप कुछ जरूर दें। ऐसा करने से आपके बच्‍चों के विवाह में हो रही देरी समाप्त हो सकती है। ऐसा करने से आपके अपने भी कष्‍ट दूर होते हैं और मां लक्ष्‍मी आप से प्रसन्‍न होती हैं।
अक्षय तृतीया के दिन किए गए दान का अक्षय फल प्राप्‍त होता है। पितरों को प्रसन्‍न करने के लिए इस दिन दान करने का विशेष महत्‍व माना गया है। अक्षय तृतीया के दिन पितरों के निमित्‍त कलश, पंखा, खराव, छाता, ककड़ी और खरबूजा दान करने का विशेष महत्‍व माना जाता है। इस दिन किसी जरूरतमंद साधु-संत को फल, शक्‍कर और घी का दान करने से खास फल प्राप्‍त होता है। इस टोटके को करने से भगवान विष्‍णु के साथ ही मां लक्ष्‍मी भी प्रसन्‍न होती हैं। वैसे आप सभी से आग्रह है कि सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन करते हुए पर्व को मनाए।
🌹🙏🌹

live