फोन कॉल की तरह पेट्रोल भी होगा सस्ता रिलायंस कर सकता है बड़ा ऐलान - mithila Hindi news

mithila Hindi news

नई सोच नई उम्मीद नया रास्ता

फोन कॉल की तरह पेट्रोल भी होगा सस्ता रिलायंस कर सकता है बड़ा ऐलान

Share This
संवाद

एशिया और भारत के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी का फोकस अब पेट्रोकेमिकल कारोबार पर है. टेलीकॉम और रिटेल में धूम मचाने वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज अब पेट्रोकेमिकल्स में बड़ी भूमिका निभाने जा रही है। सूत्रों के मुताबिक, रिलायंस ने संयुक्त अरब अमीरात की सरकारी स्वामित्व वाली अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी (एडनोक) के साथ पेट्रोकेमिकल संयुक्त उद्यम के लिए एक समझौते को अंतिम रूप दिया है। दोनों कंपनियों ने डेढ़ साल पहले ब्रॉड फ्रेमवर्क समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। समझौते के तहत यूएई में एडनॉक की इंटीग्रेटेड रिफाइनिंग एंड पेट्रोकेमिकल्स साइट की सिर्फ एक फैक्ट्री लगाई जाएगी। यह एथिलीन डाइक्लोराइड (ईडीसी) बनाएगा। रिलायंस 2 1.2 अरब से 1.5 अरब का निवेश करेगी। माना जा रहा है कि एडनॉक इतनी ही राशि का निवेश करेगा। यह मध्य पूर्व में रिलायंस का सबसे बड़ा निवेश होगा। दुनिया भर में पेट्रोलियम रिफाइनिंग और केमिकल्स में वॉल्यूम और मार्जिन कोरोना महामारी से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। सरकारी अधिकारियों का कहना है कि संयुक्त उद्यम भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच ऊर्जा संबंधों को और मजबूत करेगा। यूएई भारत को तेल का पांचवां सबसे बड़ा निर्यातक है। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा आयातक और उपभोक्ता है। एडनॉक भारत के सामरिक पेट्रोलियम रिजर्व कार्यक्रम में पहला विदेशी भागीदार है और महाराष्ट्र के रत्नागिरी में प्रस्तावित रिफाइनरी-पेट्रोकेमिकल्स परियोजना में एक हितधारक है। माना जा रहा है कि इस हफ्ते अबू धाबी में रिलायंस और एडनोक के बीच ज्वाइंट वेंचर की औपचारिक घोषणा हो सकती है। रिलायंस अमेरिका में अपना अंतरराष्ट्रीय आधार बना सकती है ताकि वह वहां की उदार कर नीति का लाभ उठा सके। एथिलीन डाइक्लोराइड का उपयोग पोथिविनाइल क्लोराइड (पीवीसी) बनाने के लिए किया जाता है। पीवीसी का उपयोग आवास, कृषि और कई अन्य क्षेत्रों में किया जाता है। रिलायंस के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने हाल ही में संपन्न एजीएम में कहा कि सऊदी अरब की कंपनी सऊदी अरामको के O2C (तेल से रसायन) व्यवसाय में 15 बिलियन का निवेश करेगी। इस साल प्रक्रिया पूरी होने की उम्मीद है। रिलायंस अपने पेट्रोकेमिकल और रिफाइनिंग कारोबार के लिए पहले ही एक अलग कंपनी बना चुकी है। सऊदी अरामको के अध्यक्ष यासर अल-रुमायन एक स्वतंत्र निदेशक के रूप में रिलायंस के बोर्ड में शामिल हो गए हैं।


live

हमारे बारें में जानें

अगर आप विज्ञापन और न्यूज देना चाहते हैं तो वत्सआप करें अपना पोस्टर 8235651053

Pages